ताज़ा खबर
 

जब 14 का था झूठे बर्तन धोता था, 24 साल की उम्र में खरीदी मर्सिडीज: गोवा के मंत्री माइकल लोबो ने सुनाई अपनी कहानी

गोवा के विज्ञान और तकनीकी मंत्री माइकल लोबो ने तकनीकी छात्रों से कहा कि वे सपने देखें और उसको पूरा करने के लिए उसमें जुट जाएं। एक दिन वह हकीकत में बदल जाएगा। वह गुरुवार को मारगांव के डॉन बॉस्को कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के छात्रों के बीच अपनी सफलता के राज बता रहे थे।

गोवा के विज्ञान और तकनीकी मंत्री माइकल लोबो (फोटो सोर्स फेसबुक)

अगर आप सपने देखते हैं और उसको हकीकत में बदलना चाहते हैं तो आपको उसके पीछे लगे रहना होगा। जूनूनी बनना होगा। बिना इसकी परवाह किए कि वह कब पूरा होगा। 14 वर्ष की उम्र में एक किशोर होटल में प्लेटें धोता है और सपने देखता है कि 24 की उम्र में उसकी अपनी मर्सीडीज कार होगी। वह सपनों के पीछे लगा रहा और वह सच हुआ। गोवा के विज्ञान और तकनीकी मंत्री माइकल लोबो ने ये बातें गुरुवार को मारगांव के डॉन बॉस्को कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के कंप्यूटर इंजीनियरिंग विभाग के छात्रों को बताईं। कहा कि वह लड़का मैं था।

प्लेटें धोने से होटल मालिक बनने तक का सफर : उन्होंने बताया कि 14 वर्ष की उम्र में वह घर चलाने के लिए होटल के किचन में झूठे बर्तन धोते थे। उस समय उसी होटल में एक बिजनेसमैन मर्सिडीज कार से आते थे। मैं उनसे कहता था कि एक दिन मेरे पास भी वही कार होगी। 24 की उम्र में पहुंचते-पहुंचते वह सपना सच हो गया। उन्होंने बताया कि होटल में उन्होंने पहले प्लेटें धोईं, फिर वेटर बने और बाद में असिस्टेंट मैनेजर हो गए। इसके बाद अपना खुद का रेस्टोरेंट खोला। आज मेरे पास 4-5 रेस्टोरेंट, होटल, रिजॉर्ट मेरे अपने हैं।

National Hindi News, 20 September 2019 LIVE Updates: दिनभर की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पढ़ाई रुकी, लेकिन सपना देखना जारी रहा : डॉन बॉस्को कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के छात्रों को बताया कि वह काम करते थे, इसलिए रोज स्कूल नहीं जा पाते थे। 12वीं की कक्षा में प्रिंसिपल ने मुझे परीक्षा में नहीं बैठने दिया, क्योंकि मेरी उपस्थिति (Attendance) कम थी। इसके आगे मैं नहीं पढ़ सका। पढ़ाई रुकी, लेकिन सपने देखना नहीं रुका। सिर्फ देखा नहीं, उसको पाने के लिए पूरा प्रयास किया। यही वजह है कि मैं विधायक बनने से पहले अपने सपने पूरे कर लिए। आज पर्यटन उद्योग में मैं एक सफल बिजनेसमैन हूं तो सिर्फ इसीलिए क्योंकि मैंने यहां तक पहुंचने का सपना देखा था।

सपनों को समाज विकास से जोड़ें : माइकल लोबो ने तकनीकी छात्रों से कहा कि वह अपनी तकनीकी को अपने सपनों से जोड़ें। जो सोचें उसको पूरा करें। कहा कि जिस तरह रिसर्च करने के लिए हर वक्त उसी में डूबना पड़ता है, उसी तरह अपनी जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए उसमें जुटें और उससे समाज का विकास करें। कहा कभी मैं कुछ पैसों के लिए नौकरी करता था, आज मैंने अपने होटलों, रेस्टोरेंट्स और रिजॉर्ट्स में बहुत लोगों को नौकरी दे रहा हूं। आपका विकास तभी पूरा होगा जब आप दूसरों की मदद करेंगेष

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात: छात्रों का आरोप- 4 साल से कर रहे लाइब्रेरी की मांग, हम मुस्लिम हैं इसलिए हो रहा भेदभाव
2 Maharashtra Assembly Election 2019: उद्धव ठाकरे बोले- साथ लड़ेंगे बीजेपी-शिवसेना, 2 दिन में होगा सीटों का ऐलान
3 जाधवपुर यूनिवर्सिटी के छात्रों पर भड़के बाबुल सुप्रियो, कहा- मुझ पर हमला करने वाले ‘कायर’
ये पढ़ा क्या?
X