ताज़ा खबर
 

बिहारः ‘नीतीश को जो उखाड़ना है, उखाड़ लें’, बोले लालू के बड़े पुत्र- जेल जाने से नहीं डरते हैं, कृष्ण का जन्म ही जेल में हुआ था

राजद नेता तेजप्रताप यादव ने इशारों में कहा कि अगर नीतीश जी को आलोचना बर्दाश्त नहीं, तो वे अपने सोशल मीडिया अकाउंट डिलीट कर दें।

RJD, Tej Pratap Yadav, Biharराजद नेता तेजप्रताप यादव। (फोटो- PTI)

बिहार के नीतीश कुमार सरकार ने अपने शासन, मंत्रियों और अन्य अधिकारियों के खिलाफ आक्रामक और छवि को चोट पहुंचाने वाले सोशल मीडिया पोस्ट्स पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है। एक दिन पहले ही बिहार की आर्थिक अपराध शाखा के अधिकारी की ओर से इस बारे में एक चिट्ठी भी जारी की गई थी। हालांकि, नीतीश सरकार के इस फैसले पर विपक्ष उनके सामने खड़ा हो गया है। राजद नेता तेजप्रताप यादव ने साफ कहा है कि नीतीश कुमार जी को जो उखाड़ना है, उखाड़लें। हमें जेल जाने से डर नहीं लगता।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप से जब न्यूज एजेंसी एएनआई ने नीतीश कुमार के सोशल मीडिया पोस्ट्स पर लगाए प्रतिबंधों के बारे में राय मांगी, तो वे सरकार पर आगबबूला हो गए। तेजप्रताप ने कहा, “उनकी सरकार जबसे आई है, तबसे लोग ग्रसित हुए हैं। अब इस तरीके का मामला हुआ है, तो निंदनीय है। इस तरह की चीजें नहीं होनी चाहिए।”

तेजप्रताप से जब पूछा गया कि क्या नीतीश सरकार के नए फरमान से लोग डरेंगे तो उन्होंने कहा, “काहे के लिए डरेंगे, जो सच्चाई है वो तो हम रखेंगे ही। उनको नीतीश कुमार जी को जो करना है, वो उखाड़ लें। वो क्या उखाडेंगे।” जब रिपोर्टर ने पूछा कि क्या आप जेल जाने से डरेंगे, तो तेजप्रताप हंसते हुए बोले- “हम जेल जाने से डरेंगे। कृष्ण भगवान का जेल में ही जन्म हुआ था। हम जेल से क्यों डरेंगे। हम कोई गलत थोड़ी ही न कर रहे हैं।”

अपना अकाउंट बंद कर दें नीतीश कुमार: राजद नेता ने आगे कहा, “हम लिखेंगे काहे नहीं। सोशल मीडिया है। नीतीश कुमार जी लिखना बंद कर दें। नीतीश कुमार जी का सोशल मीडिया अकाउंट है, उसे बंद कर दें। नीतीश कुमार जी अपने फेसबुक, ट्विटर को डिलीट कर दें, उस पर कोई नहीं लिखेगा। लोग लिखना ही छोड़ देंगे।”

क्या है नीतीश सरकार का सोशल मीडिया पर नया फरमान?: बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा के आईजी नायर हसैनन खान की राज्य सरकार के सभी सचिवों को लिखी गई एक चिट्ठी में उन्होंने कहा, “बीते कुछ समय में यह सामने आया है कि कुछ लोग और संगठन सोशल मीडिया पर सरकार, सम्मानीय मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और सरकारी अधिकारियों के खिलाफ आक्रामक और छवि बिगाड़ने वाले पोस्ट कर रहे हैं। यह कानून का उल्लंघन है और साइबक्राइम के दायरे में आता है आईजी ने सभी अफसरों से कहा है कि वे ऐसी शिकायतों को आर्थिक अपराध शाखा के पास दर्ज कराएं, ताकि इसका प्रसार करने वालों को न्याय तक ले जाया जा सके।”

Next Stories
1 LAC विवादः जब तक चीन नहीं कम करेगा सैनिक, सरहद पर भारत भी न घटाएगा संख्या- बोले रक्षामंत्री राजनाथ
2 अटल जी और मोदी में क्या फर्क? बोले सीएम शिवराज- मोदी जी का तो कोई मुकाबला नहीं है, ‘Man of Ideas’ हैं
3 नेताजी भवन में था PM का प्रोग्राम, पर पहले ही बगैर किसी प्लान के पहुंचीं CM ममता, कहा- नहीं समझ आता ‘पराक्रम’ शब्द
ये पढ़ा क्या?
X