ओलम्पियन विवेक सागर प्रसाद ने पहनी DSP की वर्दी तो CM शिवराज ने जताई खुशी, जानें- खेल कोटे में कैसे मिलती है नौकरी

ओलम्पियन विवेक सागर प्रसाद ने मध्यप्रदेश में डीएसपी के रूप अपनी सेवा शुरू कर दी है। खुद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर ये जानकारी दी। विवेक सागर टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज जीतने वाली हॉकी टीम के सदस्य थे।

Olympian vivek sagar, Indian hockey player vivek sagar, vivek sagar dsp, upsc,
डीएसपी बने हॉकी प्लेयर विवेक सागर (फोटो- @ChouhanShivraj)

मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने अपना वादा पूरा करते हुए हॉकी खिलाड़ी विवेक सागर प्रसाद को डीएसपी की नौकरी दे दी है। विवेक सागर टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज जीतने वाली हॉकी टीम के सदस्य थे।

विवेक सागर जब पहली बार डीएसपी की वर्दी पहनें तो उसका फोटो शेयर कर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने खुशी जताई है। सीएम ने ट्वीट कर कहा- “ओलम्पियन और मध्य प्रदेश पुलिस के नये डीएसपी विवेद सागर जी आपको वर्दी में देखना सुखद है। मुझे विश्वास है कि आप खेल के साथ-साथ अपने कार्यों व जिम्मेदारियों से भी युवाओं को जीवन में सदैव सर्वश्रेष्ठ करने की प्रेरणा देते रहेंगे। आप आगे बढ़ते रहें, आनंदित रहें, शुभकामनाएं!”

बता दें कि मध्यप्रदेश सरकार ने पिछले महीने विवेक सागर को राज्य पुलिस में पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) के रूप में नियुक्त करने के लिए एक पत्र जारी किया था। जिसके बाद विवेक ने नौकरी ज्वाइन कर ली।

क्या है खेल कोटा- खिलाड़ियों और खेलों के प्रति उत्साह को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार ने शिक्षा और सरकारी नौकरियों में खेल कोटा के तहत नौकरियों का नियम बनाया हुआ है। भारतीय रेलवे, भारतीय सेना, पुलिस, सरकारी बैंक/विश्वविद्यालय, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों सहित अधिकांश केंद्रीय सरकारी संस्थान के साथ राज्य सरकार के विभाग भी समय-समय पर मेधावी खिलाड़ियों की अपने-अपने विभाग में नौकरी देते रहते हैं।

कौन-कौन से खेल हैं शामिल- नियम के अनुसार तीरंदाजी, एथलेटिक्स (ट्रैक और फील्ड इवेंट सहित), बैडमिंटन, बास्केटबॉल, बिलियर्ड्स और स्नूकर, मुक्केबाजी, पुल, शतरंज, क्रिकेट, साइक्लिंग, घुड़सवारी, फुटबॉल, गोल्फ, जिम्नास्टिक, हॉकी, आइस हॉकी, आइस स्केटिंग, जूड़ो, कबड्डी, कराटे जैसे कई खेलों में नौकरियां सरकार देती है।

क्या है मापदंड- स्पोर्ट्स कोटे के तहत भर्ती के लिए न्यूनतम पात्रता मानदंड 10वीं और इंटरमीडिएट है। सभी विभागों में स्पोर्ट्स कोटा जॉब के लिए अलग-अलग सिलेक्शन प्रक्रिया है, जिसे पूरा करना खिलाड़ियों के लिए अनिवार्य है। इसके अलावा स्पोर्ट्स कोटे में नौकरी के लिए अलग-अलग ग्रेड पे के हिसाब से अलग-अलग मेरिट क्राइटेरिया का भी प्रावधान है। इन आदेशों के तहत इन खिलाड़ियों की नियुक्ति की जा सकती है।

  • वो खिलाड़ी, जिसने राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में किसी राज्य या देश का प्रतिनिधित्व किया हो।
  • वो खिलाड़ी, जिसने इंटर-यूनिवर्सिटी स्पोर्ट्स बोर्ड द्वारा आयोजित इंटर-यूनिवर्सिटी टूर्नामेंट में अपने विश्वविद्यालय का प्रतिनिधित्व किया है।
  • वो खिलाड़ी जिन्हें राष्ट्रीय शारीरिक दक्षता अभियान के तहत शारीरिक दक्षता में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
  • उम्मीदवारों का चयन लिखित परीक्षा/खेल परीक्षण/मेडिकल टेस्ट और उसके बाद साक्षात्कार के आधार पर किया जाता है।

इसके अलावा केंद्र और राज्य सरकार उन खिलाड़ियों को सीधे भी भर्ती करती है। जिन्होंने किसी खेल में अपना बेहतरीन योगदान दिया हो। जैसा हॉकी प्लेयर विवेक सागर के मामले में है। इन्हें सरकार ने सीधे नौकरी दी है।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट