ताज़ा खबर
 

पुलिस कस्टडी में आरोपी की मौत, भीड़ ने मिलकर फूंक दिया थाना

पुलिस के मुताबिक बुधवार (7 फरवरी) की रात चोरी के आरोप में के आदिवासी लड़के पकड़ा गया था, जिसकी हिरासत में मौत हो गई। आरोपी की मौत के बाद इलाके में आक्रोश फैल गया और लोगों की भीड़ ने थाने को जला दिया।
ओडिशा: हिरासत में आरोपी की मौत के बाद लोगों ने पुलिस थाने को फूंक दिया। (फोटो सोर्स – एएनआई)

ओडिशा में पुलिस की हिरासत में हुई एक शख्स की मौत के बाद गुस्साई भीड़ ने संभलपुर में एक पुलिस थाने को फूंक दिया। समाचार एजेंसी एएनआई की खबर के मुताबिक भीड़ ने गुरुवार (8 फरवरी) को एंतापली पुलिस थाने में तोड़फोड़ कर उसे आग लगा दी। पुलिस के मुताबिक बुधवार (7 फरवरी) की रात चोरी के आरोप में एक आदिवासी लड़के पकड़ा गया था, जिसकी हिरासत में मौत हो गई। आरोपी की मौत के बाद इलाके में आक्रोश फैल गया। संभलपुर के एसपी संजीव अरोड़ा ने बताया कि हिरात में आरोपी की मौत के बाद 150-200 लोग पुलिस थाने में इकट्ठा हो गए और उसे फूंक दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस बल तैनात किए गए हैं। अब हालाता काबू में हैं। हिन्दुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक गुस्साई भीड़ ने पुलिसवालों को पीटा भी और उनके वाहनों में भी आग लगा दी। पुलिस ने ओरोपी की मौत को आत्महत्या करार दिया है।

गुस्साई भीड़ में महिलाएं भी शामिल थीं। लोग अपने घरों से लोहे की रॉड और लाठियां लेकर आए थे। लोगों ने पत्थरों से भी पुलिसवालों और थाने पर हमला किया। कहा जा रहा है कि सात पुलिस वालों को इस घटना में चोटें आईं।पुलिस के मुताबिक हालात को काबू में लाने के लिए लाठीचार्ज करना पड़ा था, वहीं इस घटना के बाद ड्यूटी पर लगे दो पुलिसवालों को सस्पेंड किया गया है। इस मामले की जांच की जिम्मेदारी एसपी संजीव अरोड़ा को दी गई है। वह तीन सदस्यीय दल के साथ हिरासत में हुई आरोपी की मौत मामले की जांच करेंगे।

एसपी संजीव अरोड़ा ने बताया कि भालुपल्ली गांव से चोरी के केस में 22 वर्षीय अबिनाश मुंडा को गिरफ्तार किया गया था। लेकिन हिरासत में वह फांसी पर लटका पाया गया। मृतक के घरवालों ने पुलिस पर आरोप लगाया है। घरवालों का कहना है कि पुलिस ने ही अबिनाश को मार डाला। मृतक के पिता ने कहा कि पुलिस ने वादा किया था कि उसका बेटा पूछताछ के बाद घर वापस आ जाएगा। पुलिस के मुताबिक रंजन पांडा की सोने और जेवरातों की चोरी को लेकर की गई शिकायत के बाद मुंडा को हिरासत में लिया गया था। रंजन पांडा ने अपनी बेटी की शादी के लिए गहने और सोना जुटाया था। पुलिस ने बताया कि चोरी हुए गहनों के कुछ अंश मुंडा के घर पर मिले थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक इस घटना के बाद ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी हिरासत में हुई आरोपी की मौत के बाद दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने मृतक के परिवार को 5 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App