ताज़ा खबर
 

2019ः महागठबंधन में नहीं जाएगी BJD, कांग्रेस बोली- मोदी विरोध कम करने के लिए KCR से मिले थे पटनायक

क्षेत्रीय क्षत्रपों के सहारे मोदी को सत्ता से हटाने की कांग्रेस की रणनीति को ओडिशा में बड़ा झटका लगा है।

ओडिशा सीएम नवीन पटनायक। (file pic)

लोकसभा चुनाव 2019 में नरेंद्र मोदी नीत भाजपा के मुकाबले को बन रहे महागठबंधन को ओडिशा में बड़ा झटका लगा है। बीजू जनता दल (बीजेडी) के प्रमुख और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने साफ कर दिया है कि वे महागठबंधन में शामिल होने की किसी भी संभावना से साफ इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा, ‘हम अपनी नीतियों के साथ ही भाजपा और कांग्रेस के मुकाबले के लिए तैयार हैं।’

पटनायक का बयान कांग्रेस के लिए झटकाः मंगलवार को पटनायक ने कहा था कि बीजेडी को महागठबंधन का हिस्सा बनाने पर विचार के लिए उन्हें थोड़ा समय चाहिए। उन्होंने भाजपा पर 2014 के घोषणापत्र में किए गए वादों को नजरंदाज करने का आरोप लगाया। उल्लेखनीय है कि 2000 से 2009 तक बीजेपी एनडीए का हिस्सा रही है। इसके बाद से उसने कांग्रेस और भाजपा दोनों से ही दूरी बनाए रखी है। पटनायक का यह बयान क्षेत्रीय क्षत्रपों को एकजुट कर भाजपा को हराने की रणनीति बना रही कांग्रेस के लिए भी झटका है।

बीजेडी पर गुप्त समझौते का आरोपः दूसरी तरफ भाजपा ने बीजेडी पर कांग्रेस के साथ अंदरुनी समझौता कर अपना घर (ओडिशा) बचाने की कोशिश का आरोप लगाया। प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष बसंत पांडा के हवाले से पीटीआई ने लिखा है, ‘इसमें कोई शक नहीं है कि बीजेडी और कांग्रेस के बीच गुप्त समझौता है। पटनायक का बयान सिर्फ लोगों को भ्रमित करने के लिए है।’

‘भाजपा के साथ है बीजेडी- कांग्रेस’: दूसरी तरफ ओडिशा कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने कहा, ‘बीजेडी हमेशा से बीजेपी के साथ है लेकिन आत्म-रक्षा में वह भाजपा से दूरी होने का दावा करती है। पिछले महीने तेलंगाना सीएम के चंद्रशेखर राव के साथ पटनायक की मुलाकात भी भाजपा विरोधी धड़े को कमजोर करने की कोशिश थी।’ उल्लेखनीय है कि ओडिशा में लोकसभा की 21 और विधानसभा की 147 सीटें हैं। 2019 में यहां लोकसभा के साथ-साथ ही विधानसभा के भी चुनाव होने हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App