ताज़ा खबर
 

सख्ती से लागू होगा Odd-Even फॉर्मूला, नए साल से रोजाना सड़कों से हटेंगी 10 लाख निजी गाड़ियां

दिल्ली सरकार राजधानी में वाहनों पर सम विषम के फार्मूलें को सख्ती से लागू करेगी। अगले साल की पहली तारीख से दिल्ली में सम-विषम का फॉर्मूला लागू होने पर लगभग 10 लाख निजी कारें रोजाना सड़कों पर से हटेंगी।

दिल्ली सरकार राजधानी में वाहनों पर सम विषम के फार्मूलें को सख्ती से लागू करेगी। अगले साल की पहली तारीख से दिल्ली में सम-विषम का फॉर्मूला लागू होने पर लगभग 10 लाख निजी कारें रोजाना सड़कों पर से हटेंगी। इससे यातयात में जबर्दस्त कमी आएगी। इससे उम्मीद है कि शहर में प्रदूषण का उच्च स्तर कम होगा। दिल्ली में 19 लाख से ज्यादा चार पहिया वाहन पंजीकृत हैं और आप सरकार की महत्त्वाकांक्षी सम-विषम फॉर्मूला लागू होने के बाद इसमें से करीब आधे वाहन सड़कों पर नहीं आ पाएंगे।

सरकार के एक शीर्ष अधिकारी के मुताबिक दिल्ली में 19 लाख चार पहिया वाहन पंजीकृत हैं जिसमें कार, जीप और वैन शामिल हैं। उन्होंने कहा कि एक जनवरी से सम विषम योजना लागू होने के बाद से विषम तारीखों पर शहर की सड़कों पर 10 लाख सम नवंबर की कारें नहीं चलेंगी और ऐसा ही 15 दिन के परीक्षण अवधि में दूसरे दिन होगा। आइआइटी कानपुर के एक अध्ययन के मुताबिक, सर्दियों में वाहनों से निकलने वाला उत्सर्जन राजधानी की आबो हवा को खराब कर देता है।

दिल्ली सरकार को पड़ोस के शहरों नोएडा, गुड़गांव, गाजियाबाद, फरीदाबाद और सोनीपत से बड़ी संख्या में आने वाली निजी चार पहिया वाहनों पर नीतिगत फैसला करना है। सरकार को यहां की तकरीबन 57 लाख मोटर साइकलों और स्कूटरों पर भी फैसला करना है। दिल्ली के परिवहन मंत्री गोपाल राय ने कहा कि सरकार सम-विषम को लागू करने के लिए अंतिम योजना 25 दिसंबर से पहले लेकर आएगी और शहर की आबो हवा को साफ करने के लिए इसे सख्ती से लागू करेगी।

अधिकारी ने कहा कि सभी संबंधित विभागों से सरकार की महत्त्वाकांक्षी योजना को सफलतापूर्वक लागू करने के लिए रास्ते सुझाने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि डीटीसी को क्लस्टर योजना के तहत निजी और स्कूल बसों को लगाने के निर्देश दिए गए हैं ताकि एक से 15 जनवरी के बीच सार्वजनिक परिवहन इस्तेमाल करने के दौरान लोगों को परेशानी न हो। आप सरकार तीन मौजूदा कानूनों-पर्यावरण संरक्षण अधिनियम, वायु (प्रदूषण का निवारण और नियंत्रण) अधिनियम और मोटर वाहन अधिनियम जिसके तहत सरकार सम-विषम नियम का उल्लंघन करने वालों पर जुर्माना लगा सकती है, का अध्ययन कर रही है।

 

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X