ताज़ा खबर
 

जींद: NSUI का आरोप- भाजपा नेताओं ने विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों को बना डाला है RSS मुख्यालय

एनएसयूआई की जिला इकाई ने दावा किया कि भाजपा के कार्यक्रमों में जाने वाले छात्रों की हाजिरी लगाई जाती है, जबकि शेष छात्रों को गैरहाजिर दिखा दिया जाता है।
Author जींद | January 12, 2018 20:55 pm
आरएसएस के कार्यकर्ता। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कांग्रेस के छात्र संगठन नेशनल स्टूडेंट यूनियन आॅफ इंडिया (एनएसयूआई) की जिला इकाई ने शुक्रवार आरोप लगाया कि चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय और प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी महाविद्यालय के छात्र/छात्राओं को सत्ताधारी भाजपा के कार्यक्रमों में जबरन मौजूद रहने के फरमान सुनाए जाते हैं। एनएसयूआई ने यह आरोप भी लगाया कि भाजपा नेताओं ने जिले के विश्वविद्यालय और महाविद्यालयों को आरएसएस मुख्यालय बना दिया है। जिलाध्यक्ष बलराज कंडेला की अगुवाई में एनएसयूआई सदस्यों ने एसडीएम के जरिए राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा, जिसमें उन्होंने जिले में होने वाले भाजपा के कार्यक्रमों में चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय और प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी महाविद्यालय के छात्र/छात्राओं को जबरदस्ती मौजूद रहने के आदेश से मुक्ति दिलाने की मांग की।

राज्यपाल को सौंपे ज्ञापन में आरोप लगाया गया कि जींद में भाजपा सरकार का कोई भी कार्यक्रम होता है तो चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति और योग विभाग के प्रभारी वीरेंद्र सिंह द्वारा छात्र-छात्राओं को सत्ताधारी पार्टी के कार्यक्रम में जाने का आदेश दिया जाता है। उन्होंने दावा किया कि भाजपा के कार्यक्रमों में जाने वाले छात्रों की हाजिरी लगाई जाती है, जबकि शेष छात्रों को गैरहाजिर दिखा दिया जाता है।

कंडेला ने आरोप लगाया कि भाजपा के कार्यक्रमों के कारण छात्रों की ओर से छुट्टी लेने पर उनकी पढ़ाई बाधित हो रही है और चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय को भाजपा नेताओं ने आरएसएस मुख्यालय बना दिया है। ज्ञापन में राज्यपाल से एनएसयूआई ने भाजपा सरकार को कड़े निर्देश देने की मांग की। उन्होंने दावा किया कि जींद में भाजपा नेताओं द्वारा चलाए जा रहे विवेकानंद फाउंडेशन ने आज स्वामी विवेकानंद जयंती पर महिला कालेज में एक कार्यक्रम आयोजित किया, जिसमें प्रियदर्शनी इंदिरा गांधी महाविद्यालय के सभी विद्यार्थियों को कार्यक्रम में उपस्थित रहने के आदेश दिए गए।

उल्लेखनीय है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधते हुए गुरुवार को उन्हें ‘हिन्दू उग्रवादी’ कहा था। हालांकि भाजपा ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि वह कांग्रेस ही है जिसने अलगाववादियों का समर्थन किया। भाजपा ने उनके नेताओं के साथ-साथ आरएसएस नेताओं की गिरफ्तारी करने की सिद्धारमैया को चुनौती भी दी। सिद्धारमैया ने बुधवार को कहा था कि भाजपा और आरएसएस ‘आतंकवादी’ हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.