ताज़ा खबर
 

शादी का झांसा देकर इस्लाम कबूल कराया, रेप और धोखाधड़ी में आरोपी एनआरआई गिरफ्तार

दुबई में रहने वाले एनआरआई ने हैदराबाद निवासी महिला को शादी का झांसा दिया था। उसने चार साल साथ में रहने के बाद शादी से इनकार कर दिया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
Author नई दिल्ली | February 9, 2018 16:38 pm
एनआरआई ने शादी का झांसा देकर हैदराबाद की महिला का धर्म परिवर्तन कराया और बाद में वादे से मुकर गया। (प्रतीकात्मक फोटो)

हैदराबाद की एक महिला को शादी का झांसा देकर इस्लाम धर्म कबूल कराने और दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। तेलंगाना पुलिस ने आरोपी एनआरआई के खिलाफ दुष्कर्म और धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। हैदराबाद की रहने वाली पिंकी चंदा ने पुलिस को बताया कि वह सफदर अब्बास जैदी के साथ एक कंपनी में काम करती थी। उनके मुताबिक, अब्बास ने धर्म बदलने पर शादी करने का वादा किया था। शिकायत के अनुसार, अब्बास के दुबई जाने से पहले पिंकी ने इस्लाम कबूल कर लिया था। उसने अपना नाम पिंकी से बदलकर फातिमा जेहरा रख लिया था। इसके बाद दोनों साथ में ही दुबई भी गए थे। आरोप है कि चार साल साथ में रहने के बाद अब्बास के सुर बदल गए। उसने शादी करने से यह कहते हुए इनकार कर दिया कि पिंकी ने सही तरह से इस्लाम धर्म का पालन ही नहीं किया था। इसके बाद पीड़िता वापस हैदराबाद आ गई थी। यहां उसने अब्बास के खिलाफ मलकाजगिरि थाने में बालात्कार और धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई थी। अब्बास के हैदराबाद पहुंचने पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

पिंकी ने बताया कि दुबई पहुंचने पर उसने अब्बास को धार्मिक रीति-रिवाज से शादी करने को कहा था, लेकिन वह पूर्व में किए गए वादे से मुकर गया। हैदराबाद हज हाउस में पिंकी का नाम बदलने और नया नाम रखने पर सहमति बनी थी। पीड़िता ने पुलिस को इससे जुड़े दस्तावेज भी सौंपे हैं। पिछले साल नवंबर में पुलिस ने तेलंगाना में ही 4 से 15 वर्ष के गरीब बच्चों का जबरन धर्मांतरण कराने के मामले में नौ लोगों को गिरफ्तार किया था। सत्रह बच्चों को उनके चंगुल से छुड़ाया भी गया था। जबरन धर्मांतरण का यह मामला मलकाजगिरी डिवीजन का ही था। इस साल केरल में भी एक महिला का जबरन धर्मांतरण कराने और उसे सीरिया में आतंकी संगठन आईएसआईएस के हाथों बेचने के प्रयास का मामला सामने आया था। आतंकी संगठन से तार जुड़ने के कारण एनआईए ने मामले की जांच अपने हाथ में ले ली थी। केंद्र सरकार ने केरल हाई कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर इसकी जानकारी दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.