ताज़ा खबर
 

दिल्ली दंगा: 1300 को पकड़ लिया, पर सबूत-गवाह नहीं जुटा पा रही पुलिस; 20 को मिली बेल

Anti CAA riots: पूर्वोत्तर दिल्ली दंगों के मामलों में दिल्ली की एक अदालत ने पिछले पांच दिन में करीब 20 आरोपियों को जमानत दी। आरोपियों के खिलाफ पुलिस के पास कोई ठोस सबूत नहीं है। ज्यादातर आरोपियों ने जमानत मांगते हुए कहा कि उनके नाम एफआईआर में नहीं हैं और उन्हें गलत तरीके से फंसाया गया है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: May 24, 2020 9:07 AM
आरोपियों के खिलाफ पुलिस के पास कोई ठोस सबूत नहीं। (file)

North East Delhi Anti CAA riots: दिल्ली की एक अदालत ने पूर्वोत्तर दिल्ली दंगों के मामलों में पिछले पांच दिन में करीब 20 आरोपियों को जमानत दी है। अदालत का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ पुलिस के पास कोई ठोस सबूत नहीं है। एडिशनल सेशन जज (एएसजे) सुनील चौधरी द्वारा 22 मई को दिए एक आदेश के मुताबिक “जांच अधिकारी ने इन आरोपियों की जमानत अर्जी का विरोध किया। लेकिन सवाल किए जाने पर अधिकारी ने माना कि आरोपियों के खिलाफ वे कोई भी पुख्ता सबूत नहीं जुटा पाये हैं। उन्होंने माना कि वह किसी भी चश्मदीद गवाह को खोजने में असमर्थ हैं, जिन्होंने आरोपियों को घटना को अंजाम देते हुए देखा हो।”

ज्यादातर आरोपियों ने जमानत मांगते हुए कहा कि उनके नाम एफआईआर में नहीं हैं और उन्हें गलत तरीके से फंसाया गया है। फरवरी के अंतिम सप्ताह में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के दौरान उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक दंगे हुए थे। इन दंगों में 53 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हुए थे। अदालत के रिकॉर्ड के अनुसार, लगभग 750 मामले दर्ज किए गए थे। दिल्ली पुलिस ने हाल ही में कहा कि दंगों के सिलसिले में अब तक 1,300 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Coronavirus Live update: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट….

जमानत मांगने वाले ज्यादातर आरोपी लॉकडाउन के दौरान गिरफ्तार किए गए थे। 19 मई से 23 मई के बीच अदालत एक दिन में 20-30 जमानत याचिकाओं पर सुनवाई कर रही है। शनिवार को एएसजे त्यागिता सिंह के समक्ष दायर 15 आवेदनों में से एक आरोपी को जमानत नहीं मिली।

वहीं 22 मई को दायर की गई 36 जमानत अर्जियों में से पांच को खारिज कर दिया गया क्योंकि एएसजे चौधरी ने कहा कि अपराध की गंभीरता और अब तक एकत्र किए गए सबूतों के विवरण को देखते हुए, इन आवेदकों को जमानत नहीं दी जा सकती। बता दें जिन आवेदकों को जमानत दी गई है, कोर्ट ने उन्हे आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने को कहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 जयपुर में कोरोना वायरस से 77 लोगों की मौत, राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 6,794