ताज़ा खबर
 

NRC पर भड़कीं सीएम ममता बनर्जीं, बोलीं- मेरे मरने के बाद भी TMC इसे बंगाल में नहीं होने देगी लागू

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र को चेतावनी दी है कि राज्य में एनआरसी नीति लागूू करने की कोशिश की गई तो उसके गंभीर परिणाम होंगे। राज्य की जनता और उनकी पार्टी टीएमसी इसे किसी भी हाल में लागू नहीं होने देगी।

कोलकाताममता बनर्जी (फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की मुखिया ममता बनर्जी ने गुरुवार को कहा कि नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (एनआरसी) नीति को राज्य की जनता किसी हालत में स्वीकार नहीं करेगी। यह बंगाल को बांटने की कोशिश है। ऐसी नीतियां समाज को तोड़ती हैं। केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि बंगाल में विभाजनकारी एनआरसी नीति को थोपने की कोशिश की गई तो उसका जोरदार विरोध किया जाएगा। तृणमूल कांग्रेस की मुखिया उत्तरी कोलकाता के सिंथी मोड़ से श्यामबाजार तक एक जुलूस का नेतृत्व कर रही थीं। इस दौरान कहा कि बंगाल को बांटने का मतलब देश को बांटना होगा, क्योंकि राज्य की परंपराएं देश की सामूहिक परंपरा का हिस्सा हैं। मैं मर भी जाऊंगी तब भी हमारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस इसे लागू नहीं होने देगी। राज्य की जनता एकजुट है और वह ऐसी किसी भी कोशिश को नाकाम करने में सक्षम है।

आग से खेलने पर केंद्र को कड़ी चेतावनी : उन्होंने कहा कि आप बंगाल की संस्कृति को नष्ट करने की कोशिश कर रहे हैं। आप हमें झुका नहीं सकते हैं। जय हिंद, जय बंगाल हमारा नारा है। मुख्यमंत्री ने आग से खेलने पर केंद्र को कड़ी चेतावनी दी और कहा कि एक आंदोलन शुरू करने का यही वक्त है। यहां की जनता केंद्र की सरकार को बता देगी कि वह अपनी संस्कृति को नष्ट नहीं होने देगी।

National Hindi News 13 September 2019 LIVE Updates: दिन भर की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

आसाम में एनआरसी का किया विरोध : इससे पहले असम में केंद्र की एनआरसी नीति का विरोध करते हुए टीएमसी मुखिया ममता बनर्जी ने कहा कि उस नीति को पश्चिम बंगाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मामले को राज्य की विधानसभा में भी उठाया गया था। जनता में इसे लेकर जबरदस्त गुस्सा है। यहां की भाईचारा और मिलजुलकर रहने की नीति को कोई तोड़ नहीं सकता है।

बीजेपी ने कहा दो करोड़ लोग बाहर होंगे : भारतीय जनता पार्टी राज्य में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (एनआरसी) नीति को लागू करने की लगातार मांग करती रही है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने इसका समर्थन करते हुए कहा कि बंगाल में इसके लागू होने के बाद दो करोड़ अवैध नाम बाहर होंगे। नागरिकता का मुद्दा आने वाले दिनों में बंगाल की राजनीति को पुनर्गठित करेगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Haryana Assembly Elections 2019: जननायक जनता पार्टी ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, जानें किसे मिला टिकट?
2 PGI लखनऊ का हाल: पैसे नहीं दिए तो आधी रात में बच्ची को अस्पताल से निकाला, एक घंटे बाद मौत
3 गुजरात में खतरे के निशान से ऊपर पहुंची नर्मदा, 3900 लोग हुए बेघर
ये पढ़ा क्या...
X