ताज़ा खबर
 

अब Mobile App से क्राइम पर लगाम लगाएगी नोयडा पुलिस

अपराध पर लगाम लगाने और पुलिस व जनता के बीच सीधा संवाद स्थापित करने के लिए रविवार को शुरू हुए सिटिजन कॉप मोबाइल ऐप में पहले दिन ही खामियों का नजारा दिखा।

Author नोयडा | March 7, 2016 01:46 am
प्रतीकात्मक तस्वीर

अपराध पर लगाम लगाने और पुलिस व जनता के बीच सीधा संवाद स्थापित करने के लिए रविवार को शुरू हुए सिटिजन कॉप मोबाइल ऐप में पहले दिन ही खामियों का नजारा दिखा। इस ऐप में आधा दर्जन से ज्यादा ऐसे पुलिस अफसरों के नंबर हैं, जिनका जिले से तबादला हो चुका है या फिर पुराने नंबर की जगह पर उनका नया नंबर चल रहा है।

हालांकि नोएडा पुलिस के अफसर ऐप से होने वाले फायदों के मद्देनजर गलत नंबर अपलोड होने को खास तवज्जो नहीं दे रहे हैं। अफसरों के मुताबिक, ऐप फिलहाल एक प्रयोग के रूप में शुरू किया गया है। प्रयोग के दौरान सार्थक नतीजे मिलने पर मोबाइल नंबर व अफसरों के नाम से जुड़े बदलाव किए जाएंगे। सेक्टर-6 के नोएडा एंटरपे्रन्योर्स भवन में रविवार को एसएसपी किरन एस. ने मोबाइल ऐप शुरू करने की घोषणा की।

उन्होंने बताया कि मोबाइल ऐप के जरिए शहर में छिनैती व लूटपाट की वारदातों के अलावा अतिक्रमण से निपटने में भी मदद मिलेगी। सिटिजन कॉप मोबाइल ऐप को आइटी विशेषज्ञ राकेश जैन ने तैयार किया है। ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। इसमें आॅडियो, वीडियो और शिकायत दर्ज कराने के अलावा सुरक्षा के मद्देनजर कई तरह के विकल्प उपलब्ध कराए गए हैं।

जानकारों के मुताबिक, ऐप पर दर्ज होने वाली शिकायत पुलिस कंट्रोल रूम के जरिए संबंधित इलाके की पीसीआर समेत आला अधिकारियों तक पहुंचेगी। मोबाइल पर सूचना मिलने के तीन मिनट के भीतर पुलिस या पीसीआर के घटनास्थल पर पहुंचने का दावा किया गया है। खास बात यह है कि पुलिस ने ऐप के जरिए शिकायत करने वाले का नाम गोपनीय रखने की भी बात कही है।
साथ ही ऐप पर थाना प्रभारियों सहित आला अधिकारियों के नंबर भी उपलब्ध होंगे। इन नंबरों के जरिए पीड़ित संबंधित अफसर से भी बात कर सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App