ताज़ा खबर
 

रोक के बावजूद नोएडा के पार्क में पढ़ी गई नमाज, हाथ पर हाथ धरे रह गई यूपी पुलिस

शहर के सेक्टर 58 के पार्क में नमाज न पढ़ी जाए इसके लिए पुलिस ने पार्क में पानी डालवा कर इंतजाम कराया था लेकिन सेक्टर 63 और सेक्टर 65 के पार्क में पुलिस लोगों को नमाज अता करने से नहीं रोक पाई। शुक्रवार को सेक्टर 58 के पार्क के बाहर एक दमकल भी तैनात किया गया था।

प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस

उत्तर प्रदेश के नोएडा में सेक्टर 58 के पार्क में नमाज अता करने से उठा विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है। हाल में नोएडा पुलिस ने सेक्टर 58 समेत सभी पार्कों में नमाज अता करने पर रोक लगाई थी लेकिन शुक्रवार (28 दिसंबर) को जुमे की नमाज अता करने के लिए लोग सेक्टर 63 और 65 के पार्क में इकट्ठा हुए। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शहर के सेक्टर 58 के पार्क में नमाज न पढ़ी जाए इसके लिए पुलिस ने पार्क में पानी डालवा कर इंतजाम कराया था लेकिन सेक्टर 63 और सेक्टर 65 के पार्क में पुलिस लोगों को नमाज अता करने से नहीं रोक पाई। शुक्रवार को सेक्टर 58 के पार्क के बाहर एक दमकल भी तैनात किया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शुक्रवार को सेक्टर 58 के पार्क में दस-बारह लोग ही नमाज पढ़ने पहुंचे लेकिन पार्क के जलमग्न होने के कारण वे लौट गए। बता दें कि इस महीने की शुरुआत में नोएडा पुलिस ने आदेश जारी किया था कि सरकारी प्लॉट में जुमे की नमाज नहीं पढ़ी जा सकती क्योंकि इसके लिए उन्हें जरूरी इजाजत नहीं है। स्थानीय लोगों के मुताबिक यहां पिछले कुछ साल से जुमे के नमाज पढ़ी जाती थी जिसमें सैकड़ों लोग शामिल होते थे।

पुलिस उपाधीक्षक (नगर) राजीव कुमार सिंह ने मीडिया को बताया कि पार्क में नमाज पढ़ने को लेकर चल रहे विवाद के मद्देनजर वहां पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। उन्होंने बताया कि पार्क में नमाज पढ़ने की इजाजत जिला प्रशासन द्वारा नहीं दी गई थी। इस वजह से शांति व्यवस्था कायम करने के लिए वहां पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था। सीओ ने बताया कि पुलिस ने वहां पर नमाज पढ़ने वाले लोगों को पहले ही हिदायत दे दी थी कि पार्क में नमाज पढ़ना गैरकानूनी है जिसकी वजह से ज्यादातर लोग नमाज पढ़ने वहां नहीं आए।

उन्होंने बताया कि नोएडा प्राधिकरण ने विवादित पार्क में पानी भर दिया जिसकी वजह से वहां पर नमाज पढ़ने की जगह नहीं बची। पार्क में नमाज के आयोजकों में से एक आदिल रशीद ने बताया कि इस पार्क में 2013 से जुमे की नमाज अता की जा रही थी। रशीद ने बताया कि उन्होंने गुरुवार को नमाजियां से अपील की थी कि वे नमाज पढ़ने पार्क में नहीं जाएं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App