ताज़ा खबर
 

Noida: बाइक बोट कंपनी ने निवेशकों के 650 करोड़ रुपए किए डायवर्ट, अब तक 37 एफआईआर हो चुकी हैं दर्ज

बाइक बोट कंपनी के खिलाफ चल रही जांच के दौरान पता चला है कि कंपनी ने अलग-अलग 17 बैंक खातों में निवेशकों से पैसे मंगाए थे। एसएसपी ने बताया कि बैंक खातों में जमा कराए करीब 650 करोड़ रुपयों को डायवर्ट किया गया है।

Author नोएडा | June 22, 2019 1:37 PM
प्रतीकात्मक फोटो फोटो सोर्स- जनसत्ता

बाइक बोट कंपनी की करीब 1500 करोड़ रुपए से ज्यादा के घोटाले की जांच में पता चला है कि कंपनी ने अलग-अलग 17 बैंक खातों में निवेशकों से पैसे मंगाए थे। इन बैंक खातों से करोड़ों रुपयों को सैकड़ों अलग-अलग बैंक खातों में ट्रांसफर किया गया है। एसएसपी वैभव कृष्ण ने घटना की जानकारी दी। एसएसपी ने बताया कि अभी तक की जांच के अनुसार बैंक खातों में जमा कराए करीब 650 करोड़ रुपयों को डायवर्ट किया गया है। इसके अलावा बाइक कंपनी के निदेशकों ने इन खातों से चेक या अन्य तरीके से लग्जरी वाहन खरीदने पर भी करोड़ों रुपए खर्च किए है । इनमें से 8.75 करोड़ रुपए के वाहन जब्त किए हैं।

एसआईटी कर रही है मामले की जांचः एसएसपी ने बताया कि बाइक बोट कंपनी के खिलाफ नोएडा में दर्ज हुई 37 एफआईआर की जांच एक एसआईटी कर रही है। इस टीम ने जेल में बंद मुख्य आरोपी व मास्टरमाइंड संजय भाटी को 5 दिन और दूसरे निदेशक विजयपाल कसाना को 3 दिन की पुलिस रिमांड पर लेकर गहनता से पूछताछ की। इस दौरान कंपनी के दनकौर स्थित चीती गांव में बनाए गए मुख्य कार्यालय में छानबीन की गई। जहां से 102 बाइकें बरामद हुईं। इसके अलावा यह भी पता चला था कि आरोपियों ने पहले ही अपने आफिस में खुद आग लगाकर बहुत सारे साक्ष्यों को जलाकर नष्ट कर दिया है । इसके साथ मौके से फर्जी चेक से भरे 5 बोरे भी मिले। उन्होंने बताया कि कंपनी को बंद करने के बाद विरोध करने वाले निवेशकों को यही चेक देकर आरोपियों के भागने की योजना थी।
National Hindi News, 22 June 2019 LIVE Updates: दिनभर की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अलग-अलग नामों से खोले गए 17 बैंक खातेः एसएसपी ने बताया कि पुलिस की अभी तक की जांच में पता चला है कि बाइक बोट के अलग-अलग नाम से 17 बैंक खाते खोले गए थे। अभी और भी खाते मिल सकते हैं। इन खातों में अब रुपए नहीं हैं। इन खातों से अलग-अलग श्रंखला के रूप में सैकड़ों बैंक खाते हैं जिनमें पैसे ट्रांसफर किए गए हैं। एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि इस पूरे फर्जीवाड़े में धनशोधन के भी संकेत मिले हैं, जिसकी जांच की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App