ताज़ा खबर
 

सरकार पर पूरा भरोसा है और अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए जल्द पास होगा कानूनः VHP

अदालत के बाहर समाधान की संभावना से इनकार करते हुए विहिप के एक वरिष्ठ नेता सुरेंद्र जैन ने आज कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए संसद में एक कानून पारित किया जाना चाहिए।

Author कोलकाता | April 11, 2017 6:42 PM
अदालत के बाहर समाधान की संभावना से इनकार करते हुए विहिप के एक वरिष्ठ नेता सुरेंद्र जैन ने आज कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए संसद में एक कानून पारित किया जाना चाहिए।

अदालत के बाहर समाधान की संभावना से इनकार करते हुए विहिप के एक वरिष्ठ नेता सुरेंद्र जैन ने आज कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए संसद में एक कानून पारित किया जाना चाहिए। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय संयुक्त महासचिव जैन ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘सरकार पर हमें पूरा भरोसा है और हमें लगता है अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए जल्द ही एक कानून पारित किया जाएगा।’ उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर बनाने के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का वादा हमारे निश्चय से कहीं कम नहीं है।

शीर्ष न्यायालय द्वारा दिए गए न्यायालय के बाहर समाधान करने के सुझाव की संभावना से इनकार करते हुए जैन ने कहा, ‘‘मुस्लिम समुदाय से अन्य पक्ष चर्चा में और विमर्श में रूचि नहीं ले रहे हैं। इसलिए किसके साथ हम इस विषय पर चर्चा करें और समाधान करें। इस मुद्दे का समाधान निकालने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है एक कानून पारित करना और अयोध्या में राम मंदिर बनाना । यह पूछे जाने पर कि राज्यसभा में बहुमत नहीं होने पर भाजपा नीत राजग सरकार कानून किस तरह पारित करा पाएगी, जैन ने कहा, ‘‘ऐसे कई उदाहरण हैं, जब संसद में दोनों सदनों की संयुक्त बैठक के जरिए विधेयक पारित हुए हैं। राम मंदिर के बाबत एक विधेयक भी संयुक्त बैठक के जरिए पारित कराया जा सकता है।’

जैन से जब पूछा गया कि क्या विहिप को केंद्र से इस विषय पर कोई आश्वासन मिला है, तो उन्होंने कहा, ‘‘हम सब जानते हैं कि मोदीजी को आश्चर्यचकित करने में महारत हासिल है। इस मामले में भी आप एक आश्चर्य देख सकते हैं। जैन ने रामनवमी के जुलूस में शामिल विहिप के कई कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने पर पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार की आलोचना की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App