ताज़ा खबर
 

देहरादून: दृष्टिबाधित छात्राओं के यौन उत्पीड़न के आरोप पर डायरेक्टर का इस्तीफा

देहरादून स्थित राष्ट्रीय दृष्टि बाधितार्थ संस्थान (एनआईवीएच) के एक शिक्षक पर छात्राओं द्वारा यौन उत्पीडन के आरोप लगाये जाने के बाद संस्थान की निदेशक अनुराधा डालमिया ने इस्तीफा दे दिया है ।

Author August 21, 2018 7:05 PM
देहरादून स्थित राष्ट्रीय दृष्टि बाधितार्थ संस्थान (Photo-nivhrc-chen.org)

देहरादून स्थित राष्ट्रीय दृष्टि बाधितार्थ संस्थान (एनआईवीएच) के एक शिक्षक पर छात्राओं द्वारा यौन उत्पीडन के आरोप लगाये जाने के बाद संस्थान की निदेशक अनुराधा डालमिया ने इस्तीफा दे दिया है । उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष उषा नेगी ने जांच के लिए संस्थान का दौरा किया था जिसके बाद निदेशक ने कल शाम अपने पद से इस्तीफा दे दिया । छात्राओं ने आरोप लगाया था कि संगीत शिक्षक उन्हें अनुचित तरीके से स्पर्श करते हैं और उसे गिरफ्तार करने के अलावा उन्होंने मांग की थी कि आरोपी को बचाने का प्रयास करने के लिए निदेशक को हटाया जाए। अपनी मांग को लेकर छात्राओं ने आंदोलन शुरू किया था। उत्तराखंड बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष उषा की मौजूदगी में अनुराधा ने संस्थान के निदेशक पद से इस्तीफा दिया । उषा ने अनुराधा के इस्तीफा देने की पुष्टि की लेकिन कहा कि उन्होंने ऐसा अपनी इच्छा से किया है ।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64GB Blue
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback
  • Apple iPhone 6 32 GB Gold
    ₹ 25899 MRP ₹ 31900 -19%
    ₹3750 Cashback

एक सवाल के जवाब में उषा ने कहा, ”हमारी तरफ से उन पर कोई दवाब नहीं था । उन्होंने खुद अपनी इच्छा से इस्तीफा दिया है, क्योंकि उन्होंने महसूस किया कि जब बच्चों का भरोसा उन पर नहीं रहा तो पद पर बने रहने का कोई मतलब नहीं है ।” संस्थान की जांच में निकले निष्कर्षों के बारे में पूछे जाने पर उषा ने यह कहते हुए कुछ बताने से इंकार कर दिया कि अभी इस बारे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी । हांलांकि, उन्होंने यह माना कि निश्चित रूप से कुछ गड़बड़ है ।

उषा ने कहा, ”निश्चित रूप से कुछ कह पाना अभी जल्दबाजी होगी । आरोप संवेदनशील प्रकृति के हैं और अभी जांच चल रही है । हमें उनकी जड तक पहुंचना होगा । मैं अभी सिर्फ इतना कह सकती हूं कि निश्चित रूप से कहीं कुछ गडबड है ।” संस्थान में 10 घंटे बिताने और छात्रों व निदेशक से बात करने के बाद उषा ने कहा कि छात्रों और संस्थान के प्रशासन में संवादहीनता है क्योंकि बच्चों की कई शिकायतें हैं जिनका समाधान किया जाना चाहिए ।

बाल आयोग की अध्यक्ष ने बताया कि आयोग ने एक समन्वय समिति के गठन की सिफारिश की है जो संस्थान के प्रशासन और छात्रों के बीच पुल का काम करे । हांलांकि, निदेशक के इस्तीफ से एनआइवीएच के छात्र शांत नहीं हुए हैं और उन्हें बदले जाने तक उन्होंने अपना आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दे रहे हैं ।  वह संगीत शिक्षक को निलंबित किये जाने पर भी संतुष्ट नहीं हैं और उनका कहना है कि यह पर्याप्त नहीं है ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App