ताज़ा खबर
 

2 सालों के बाद पहली बार नीतीश-लालू ने साथ मनाई होली

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने आवास 7 सर्कुलर रोड से सटे राजद प्रमुख के आवास 10 सकुर्लर रोड जाकर होली की पूर्व संध्या पर बुधवार (23 मार्च) देर शाम लालू और उनकी पत्नी राबड़ी देवी को होली की बधायी और शुभकामना दी

Author पटना | March 24, 2016 8:13 PM
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को गुलाल लगाते हुए। (पीटीआई फोटो)

रंगों और अबीर-गुलाल के त्योहार होली के दिन बिहार की राजधानी पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद के आवास सहित प्रदेश के अन्य भागों में लोग इस पर्व को पूरे जोश के साथ हर्षोल्लास और शांतिपूर्ण वातावरण में मना रहे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद द्वारा विभिन्न कारणों से पिछले दो वर्षों से होली नहीं मनायी थी पर गत वर्ष के बिहार विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत से जीत के बाद महागठबंधन (राजद-जदयू-कांग्रेस) के प्रदेश में सत्ता में आने के बाद यह पहली होली है जिसे इसबार दोनों न केवल अपने आवास पर अपने-अपने समर्थकों को फूलों की पंखुडी डालकर तथा अबीर का टीका लगाकर होली मनायी बल्कि वे एक-दूसरे के आवास जाकर होली की बधायी और शुभकामना भी दी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने आवास 7 सर्कुलर रोड से सटे राजद प्रमुख के आवास 10 सकुर्लर रोड जाकर होली की पूर्व संध्या पर बुधवार (23 मार्च) देर शाम लालू और उनकी पत्नी राबड़ी देवी को होली की बधायी और शुभकामना दी जबकि लालू अपने दोनों पुत्रों उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और के साथ गुरुवार (24 मार्च) नीतीश के आवास पहुंचे और उन्हें होली पर्व की बधायी और शुभकामना दीं।

होली के मौके पर पगड़ी पहने नीतीश अपने आवास पर आने वाले समर्थकों पर फूलों की पंखुडी डालकर उनका स्वागत किया और इस पर्व की बधायी एवं शुभकामना दीं। इस अवसर पर नीतीश के एक समर्थक ने उनसे कहा कि आपने मुख्यमंत्री के रूप में अपनी योग्यता साबित कर दी है और अब हम आपको प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं।

होली के अवसर पर नीतीश के आवास पर इस त्योहार से जुड़े गानों के बजाए जाने के बीच उनसे मिलने आने वालों के लिए होली के विभिन्न व्यंजनों का भी प्रबंध किया गया था। इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए नीतीश ने देश और प्रदेश वासियों को इस पर्व की शुभकामना और बधायी दी और कहा कि होली रंगों का त्योहार है। सबके जीवन में रंग भरे यही हमारी कामना है।

उन्होंने कहा कि वे कामना करते हैं कि पूरे देश में समृद्धि हो, आपस में प्रेम और सद्भाव का वातावरण रहे और देश तरक्की के रास्ते पर चले और आज के दिन को आपसी मेल और मोहब्बत के साथ मनाने के साथ हर बिहारवासी को इसपर विचार करना चाहिए कि हम सभी मिलकर ऐसा खूबसूरत बिहार और समाज बनाएं ताकि सब दिन होली जैसा माहौल रहे।

वहीं राजद प्रमुख लालू प्रसाद अपने आवास पहुंचे समर्थकों को अबीर का टीका लगाकर उन्हें होली पर्व की बधायी और शुभकामना दीं। अपने आवास पर समर्थकों से मिल रहे लालू ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए देश और प्रदेश वासियों खासतौर पर सीमा पर तैनात सैनिकों को बधायी और शुभकामना दीं।

अपने मुख्यमंत्रित्व काल के दौरान कुर्ता-फाड़ होली के लिए मशहूर रहे राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद जहां इसबार माथे पर केवल अबीर का टीका लगाकर पर्व मनाते दिखे वहीं उनके बड़े पुत्र और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप को होली के अवसर पर अपने एक समर्थक का कुर्ता फाड़ते हुए देखा गया।

लालू से यह पूछे जाने कि वे इसबार कुर्ता-फाड़ के बजाए सादे ढंग से वे होली मना रहे हैं उन्होंने कहा ‘होली क्या कुर्ता फाड़ने वाली होती है।’ अपने कार्यकाल के समय की होली की ओर इशारा करते हुए लालू ने कहा ‘‘सभी पुराना कपड़ा पहनकर आते थे और उसे फड़वाकर और फेंक दिए जाने पर उन्हें नया वस्त्र बनाकर देते थे, जो परिपाटी अब खत्म हो गयी।’’

इस अवसर पर मौजूद लालू के छोटे पुत्र तथा उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के साथ होली खेलने का यह पहला मौका था। हमलोग गए और उनसे आर्शीवाद लिया और उम्मीद करते हैं सभी के जीवन में रंग भरे और हमलोग आपसी भाईचारा के साथ मिल जुलकर रहें।

उल्लेखनीय है कि गत वर्ष मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्व मुख्यमंत्री रामसुंदर दास के निधन के शोक में अपने आवास पर आयोजित होली मिलन समारोह को स्थगित कर दिया था तथा राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद जो कि पिछले साल होली के अवसर पर दिल्ली में अपनी सबसे छोटी पुत्री राजलक्ष्मी की शादी के कारण हुए भागदौड़ और थकान दूर कर रहे थे को वर्ष 2014 में हृदय रोग का इलाज कराने के कारण चिकित्सकों के उन्हें रंग खेलने से परहेज का सुझाव दिया था।

इससे पूर्व वर्ष 2104 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सारण जिला के गंडामान गांव स्थित एक सरकारी स्कूल में पिछले वर्ष विषाक्त मध्याहन भोजन खाने से हुए 23 बच्चों की मौत को लेकर होली नहीं मनायी थी वहीं राजद सुप्रीमों और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पूर्व की भांति होली खेलने से इंकार किया था।

होली के अवसर प्रदेश की राजधानी पटना सहित राज्य के अन्य भागों में सभी आयु समूह के महिला एवं पुरुष तथा बच्चे अपने-अपने परिजनों तथा घर के बाहर निकलकर आस-पडोस के लोगों को को रंग, अबीर एवं गुलाल लगाकर होली पर्व की बधायी दे रहे हैं तथा गलियों, अपने घरों की छतों अथवा अपार्टमेंट के बेसमेंट में भांग मिले थंडई का सेवन करते दिखे।

होली पर्व के अवसर पर बनाए जाने वाले खास पकवानों मलपुआ, दही-वडा, कचौड़ी, निमकी और गुझिया देवी एवं देवताओं खासतौर पर भगवान कृष्ण और विष्णु को अर्पित कर लोग इन व्यंजनों का आनंद उठा रहे हैं। पूर्व की भांति इसबार भी युवा वर्ग सड़कों पर टोली बनाकर पैदल चलते हुए तथा मोटरबाईक सहित अन्य वाहनों पर सवार होकर होली पर्व का आनंद उठाते दिखे।

होली के अवसर पर एहतयात के तौर पर प्रदेश में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं तथा कडी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बिहार वासी इस पर्व को हर्षोल्लास और शांतिपूर्ण वातावरण में मना रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App