ताज़ा खबर
 

नीतीश कुमार में ‘मानवता की कमी’, नहीं कर सकती माफ: जया जेटली

जया जेटली ने कहा कि एक समय था जब वह सोचती थीं कि नीतीश कुमार में प्रधानमंत्री बनने की क्षमता है और वह प्रशासनिक रूप से सक्षम हैं।

Author नई दिल्ली | November 9, 2017 5:27 PM
जया जेटली ने कहा कि वह नीतीश कुमार के वरिष्ठों के प्रति ‘मानवता की कमी’ को लेकर उन्हें माफ नहीं कर सकती हैं।

समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जेटली ने कहा है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार में प्रधानमंत्री बनने की क्षमता है लेकिन उन्होंने टीम के एक सदस्य के रूप में अपने लोकतांत्रिक व्यवहार से निराश किया है। समता पार्टी में एक समय नीतीश की सहयोगी रहीं जया जेटली ने वरिष्ठों विशेषकर जार्ज फर्नांडीस के प्रति उनमें ‘मानवता की कमी’ के लिए भी नीतीश की आलोचना की। जार्ज ने नीतीश कुमार के साथ मिलकर वर्ष 1994 में समता पार्टी बनाई थी। वर्ष 2003 में पूरी पार्टी का जनता दल (यूनाइटेड) के साथ विलय हो गया था।

जया ने बुधवार को अपनी किताब ‘लाइफ अमंग स्कॉरपिअन्स’ के विमोचन के मौके पर कहा, ‘‘एक समय था जब मैं सोचती थी कि उनमें (नीतीश) में प्रधानमंत्री बनने की क्षमता है और वह प्रशासनिक रूप से सक्षम हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन उस समय जब हम साथ काम करते थे, मैंने देखा कि उन्होंने एक टीम के रूप में काम करते हुए अपने लोकतांत्रिक व्यवहार के रूप में निराश किया।’’ जेटली ने कहा लेकिन वरिष्ठों के प्रति उनमें मानवता की कमी को लेकर वह जद (यू) प्रमुख को माफ नहीं कर सकती हैं। वर्ष 2009 में राजग के संयोजक रहे फर्नांडीस को लोकसभा चुनावों के लिए जद (यू) ने बिहार से टिकट देने से इनकार कर दिया।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹3750 Cashback
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 19959 MRP ₹ 26000 -23%
    ₹0 Cashback

इसके बाद फर्नांडीस ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में जब मुजफ्फरपुर से चुनाव लड़ा तो उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। जेटली ने वर्ष 1990 में जगमोहन की जम्मू कश्मीर के राज्यपाल के रूप में नियुक्ति पर भी बात की। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे याद है कि जब मैं हौजखास में जार्ज साहब के साथ बैठी हुई थी तो फारूक अब्दुल्ला का उन्हें (जार्ज) को फोन आया और कहा कि जगमोहन को राज्य के राज्यपाल के रूप में न भेजा जाए नहीं तो वह इस्तीफा दे देंगे। जार्ज साहब ने मेरे सामने वी पी सिंह को फोन किया और उस समय उन्होंने आश्वासन दिया कि वे उन्हें राज्यपाल के रूप में नहीं भेज रहे हैं। वी पी सिंह दिसम्बर 1989 से नवम्बर 1990 तक प्रधानमंत्री रहे थे। जेटली ने कहा कि लेकिन बाद में यह जानकर फर्नांडीस हैरान रह गए कि जगमोहन को राज्यपाल बनाया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App