ताज़ा खबर
 

बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू, होटल-बार जैसी जगहों पर भी नहीं मिलेगी शराब

बिहार मंत्रिमंडल के फैसले के मुताबिक सरकार शराब बेचने के लिए अब कोई दुकान नहीं खोलेगी।

Author पटना | Updated: April 6, 2016 2:07 AM
पटना में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मीडिया से बात करते हुए। (पीटीआई फाइल फोटो)

बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने तत्काल प्रभाव से राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू कर दी है। अब राज्य में देशी के साथ-साथ अंग्रेजी शराब भी उपलब्ध नहीं होगी। बिहार मंत्रिमंडल की मंगलवार को हुई बैठक में इस बारे में फैसला किया गया। नीतीश कुमार का यह चुनावी वादा भी था। एक अप्रैल से देशी और मसालेदार शराब पर पूर्ण प्रतिबंध लगाए जाने को भारी जनसमर्थन मिलने से उत्साहित नीतीश कुमार सरकार ने शहरी इलाकों में भी भारत में बनी अंगे्रजी शराब की बिक्री प्रतिबंधित कर दी है। इसी के साथ ताड़ के उत्पाद ‘नीरा’ को प्रोत्साहित करने का फैसला किया है।

बिहार विधानमंडल के दोनों सदनों ने प्रदेश में शराबबंदी को लेकर बिहार उत्पाद (संशोधन) विधेयक 2016 को गत 30 मार्च को सर्वसम्मति से पारित कर दिया था। इसके बाद बिहार राज्य मंत्रिपरिषद के प्रदेश में शराबबंदी को 31 मार्च को मंजूरी दिए जाने और इसको लेकर उत्पाद व मद्य निषेध विभाग की ओर से अधिसूचना जारी कर दिए जाने के बाद राज्य में पहले चरण में प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में देशी व मसालेदार और भारत में बनी अंग्रेजी शराब की बिक्री को प्रतिबंधित किए जाने के साथ एक अप्रैल की मध्य रात्रि से पूर्ण शराबबंदी लागू कर दी थी। शहरी इलाकों में देशी व मसालेदार शराब की बिक्री प्रतिबंधित कर दिए जाने के बाद भारत में बनी अंग्रेजी शराब की बिक्री कुछ चुनिंदा दुकानों के जरिए की जानी थी। लेकिन शहरी इलाकों में भी पूरी तरह से शराबबंदी को लेकर वातारण बन जाने और बिहार राज्य मंत्रिमंडल की ओर से मंगलवार की बैठक में इस आशय की मंजूरी दिए जाने के बाद दूसरे चरण में यहां भी तत्काल प्रभाव से पूर्ण शराबबंदी लागू कर दी गई।

बिहार मंत्रिमंडल के फैसले के मुताबिक सरकार शराब बेचने के लिए अब कोई दुकान नहीं खोलेगी। जो दुकानें खोली हैं वे भी मंगलवार को ही बंद कर दी जाएंगी। बिहार सरकार ने यह भी कहा कि सेना छावनी को छोड़कर अब होटल, बार, रेस्टोरेंट या क्लब जैसी जगहों पर भी शराब नहीं मिलेगी। इस संबंध में अब कोई लाइसेंस भी जारी नहीं किए जाएंगे।

बैठक के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी को लेकर वातावरण बन जाने से हमने तत्काल प्रभाव से शराबबंदी लागू कर दी। उन्होंने कहा- ‘शुभस्य शीघ्रम’ यानी शुभ काम में देरी क्यों। उन्होंने कहा कि प्रदेश में शराबबंदी के पक्ष में जो माहौल बना और इसको लेकर लोग जो आवाज बुलंद कर रहे हैं, उसको ध्यान में रखते हुए उन्हें दिल से बहुत खुशी हो रही है। इसी का नतीजा है कि हम बहुत जल्द ही शराबबंदी के दूसरे चरण को लागू करने की स्थिति में पहुंच गए। उन्होंने कहा कि शहरी इलाके में भारत में बनी विदेशी शराब की तय दुकानों के बारे में लोग कह रहे हैं- मत खोलिए, तो इससे बेहतर वातावरण कब मिलता। इसलिए हमारा जो फैसला था उसके चार दिन के बाद ही वातावरण इतना बढ़िया बन गया कि हमने शराबबंदी के दूसरे चरण को तुरंत लागू करना बेहतर समझा और बिहार में मंगलवार से पूर्ण शराबबंदी लागू हो गई।

नीतीश ने कहा कि इसके लिए वे खासतौर से महिलाओं को बधाई देते हैं। लोग यही तेवर बनाए रखें और इसी भावना से काम होता रहेगा तो बिहार देश के लिए मिसाल बन जाएगा। आज सामाजिक परिवर्तन की बुनियाद पड़ी है। जो राशि शराब में खर्च हो रही थी वह अब लोगों के पोषण, शिक्षा और स्वास्थ्य पर खर्च होगी। लोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठेगा, सामाजिक परिवर्तन आएगा।

उन्होंने कहा कि इसी के साथ सरकार ताड़ से बने उत्पाद नीरा को बढ़ावा देगी। उन्होंने कहा कि इससे बनने वाले नशीले पेय ताड़ी के बारे में हमने कोई नया फैसला नहीं किया है। इसके बारे में जो फैसला 1991 का है, वही अब भी लागू रहेगा। इस बारे में सूचना जारी कर दी गई है।

उन्होंने कहा कि ताड़ का वह उत्पाद जो ताड़ी का रूप लेने से पहले सुबह का पेय जिसे ‘नीरा’ कहा जाता है, बहुत गुणकारी, उपयोगी और स्वास्थ्यवर्द्धक है। उन्होंने कहा कि नीरा को लेकर हमने एक योजना बनाई है। उसके बारे में एक कमेटी भी बना दी है। उन्होंने कहा कि खादी ग्रामोद्योग नीरा को प्रोत्साहित करता था। हम नए सिरे से नीरा को प्रोत्साहित करेंगे। नीतीश ने कहा कि सूर्य की किरण उगने से पहले ताड़ के उत्पाद को तैयार करके नीरा के रूप में उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि ताड़ के अन्य उत्पाद खेदा आदि भी गुणकारी हैं। नीतीश ने कहा कि इसके लिए स्वयं सहायता समूह या सहकारिता सोसायटी बनाएंगे। इसकी मार्केटिंग में राज्य सरकार मदद करेगी। अगले साल से इसे लांच किया जाएगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories