ताज़ा खबर
 

पप्पू यादव की गिरफ़्तारी पर नीतीश कुमार के सहयोगियों ने ही उठाया सवाल, जाप नेता ने कहा- मुझे मारना चाहते हैं

पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने उनकी गिरफ्तारी पर सख्त एतराज जताया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि ऐसी घटना मानवता के लिए खतरनाक है। वीआईपी के मुकेश सहनी ने कार्रवाई को असंवेदनशील करार दिया।

पुलिस हिरासत में थाने में बैठे जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव। (फोटो- पीटीआई)

जन अधिकार पार्टी के नेता और बिहार से चार बार सांसद रहे राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर सीएम नीतीश कुमार के सहयोगियों ने ही सरकार पर सवाल उठाए हैं। पप्पू यादव को कथित रूप से लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में मंगलवार सुबह गिरफ्तार किया गया। बाद में पुलिस ने उनको मधेपुरा के मुरलीगंज थाना कांड संख्या 9/89 के 32 साल पुराने मुकदमे में जेल भेज दिया। पूर्व सांसद ने हाल ही में कोरोना संकट के बीच धूल फांक रहीं एंबुलेंस को लेकर मुद्दा बनाते हुए भाजपा को घेरा था। पप्पू यादव ने आरोप लगाया है कि सरकार उन्हें मारना चाहती है।

पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी ने उनकी गिरफ्तारी पर सख्त एतराज जताया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है कि कोई जनप्रतिनिधि अगर दिन-रात जनता की सेवा करे और उसके एवज में उसे गिरफ़्तार किया जाए, ऐसी घटना मानवता के लिए खतरनाक है। ऐसे मामलों की पहले न्यायिक जांच के बाद ही कोई कारवाई होनी चाहिए। यदि ऐसा नहीं होता है तो जन आक्रोश होना स्वाभाविक है। उधर, नीतीश सरकार के मत्स्य पशुपालन मंत्री और विकासशील इन्सान पार्टी (वीआईपी) के प्रमुख मुकेश सहनी ने भी अपनी ही सरकार और प्रशासन के फैसले का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि जनता की सेवा ही धर्म होनी चाहिए। उन्होंने पप्पू यादव की गिरफ्तारी की कार्रवाई को असंवेदनशील करार दिया।

वहीं माले के राज्य सचिव कुणाल ने पप्पू यादव की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए कहा कि कोरोना के दौर में राज्य सरकार खुद फेल है, लेकिन जो कुछ लोग मरीजों की सेवा में उतरे हुए हैं, उन्हें भी परेशान किया जा रहा है।

इस बीच पप्पू यादव ने ट्वीट कर कहा है कि “मुझे मधेपुरा के 32 साल पुराने मुकदमे में जेल भेजा जा रहा है। पूरे दिन लॉकडाउन के उल्लंघन के आरोप में बैठाकर रखा। फिर ढूंढकर मामला निकाला गया। बीजेपी के दबाव में CM@NitishKumar जी इतने कमजोर पड़ जाएंगे यह अंदाजा नहीं था। आग्रह है कि कोविड मरीजों के उपचार में कोई कमी न रहने दें।”

उधर, पप्पू यादव को गिरफ्तार कर जेल ले जा रही पुलिस के सामने उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। पुलिस पप्पू यादव को गांधी मैदान थाने से मधेपुरा ले जा रही थी। इस दौरान उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस काफिले को रोक लिया। एनएच 19 पर बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता सड़क पर लेट गए और पुलिस वाहनों को रोका।

जनाधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव कोरोना महामारी में लगातार जनता के बीच काम कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने बिहार और केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है। कुछ ही दिन पहले उन्होंने बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूढ़ी पर एंबुलेंस को छिपा कर रखने का आरोप लगाया था।

इसके बाद उनके ऊपर छपरा में एंबुलेंस में तोड़फोड़ और धमकी देने के मामले में केस दर्ज की गई थी। बिहार में बाढ़ के दौरान भी उन्होंने नाव से घूम-घूम कर अपनी टीम के साथ लोगों की खूब मदद की थी।

Next Stories
1 एमपीः गृहमंत्री ने दिया विवादित बयान, बोले- कांग्रेस शासित सूबों से फैला कोरोना, हमारे यहां भी महाराष्ट्र से आया वायरस
2 बिहार से आईं कोरोना काल की सबसे भयावह तस्वीर, पुल से फेंके जा रहे शव, नदी में तैरती मिलीं दर्जनों लाशें
3 वैक्सिनेशन सेंटर पर भीड़ के सवाल पर बोले यूपी के हेल्थ मिनिस्टर- संक्रमण की तेज रफ्तार से लोगों में भय का माहौल
ये पढ़ा क्या?
X