ताज़ा खबर
 

महाराजा के सुरक्षाकर्मी का बेटा बना जम्मू-कश्मीर का उपमुख्यमंत्री

60 साल के निर्मल सिंह ने अपना पहला विधानसभा चुनाव कांग्रेस के विधायक मनोहर लाल शर्मा को करीब 18 हजार वोटों के अंतर से हराकर कठुआ जिले की बिलावर सीट से जीता था।

Author जम्मू | April 4, 2016 11:14 PM
भाजपा नेता निर्मल सिंह मीडिया से बातचीत करते हुए। (पीटीआई फोटो)

जम्मू कश्मीर के तत्कालीन महाराजा हरी सिंह के सुरक्षाकर्मी के बेटे और इतिहास में डॉक्टरेट डिग्रीधारी निर्मल सिंह ने सोमवार को दूसरी बार प्रदेश के उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। भाजपा के निर्मल सिंह के लिए जम्मू कश्मीर की सत्ता तक पहुंचने का यह सफर काफी लंबा रहा है। पिछले लोकसभा चुनाव में टिकट बंटवारे में निराशा झेलने के उपरांत पिछले साल भाजपा और पीडीपी गठबंधन की सरकार बनने के बाद उप मुख्यमंत्री पद के लिए सिंह भाजपा की सर्वसम्मत राय बनकर उभरे थे। तत्कालीन मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के निधन के बाद दोनों गठबंधन दल सरकार बनाने में नाकाम रहे थे।

इसके बाद राज्य में राज्यपाल का शासन लगा दिया गया था। लेकिन महबूबा मुफ्ती की नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई मुलाकात के बाद दोनों दलों ने सरकार बनाने का फैसला किया था और सिंह एक बार फिर से उप मुख्यमंत्री पद के लिए भाजपा के सर्वसम्मत उम्मीदवार के रूप में सामने आए। सिंह ने पिछले 25 साल में कई बार लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ा लेकिन जीत के लिए उन्हें 2014 तक का इंतजार करना पड़ा। 60 साल के सिंह ने अपना पहला विधानसभा चुनाव कांग्रेस के विधायक मनोहर लाल शर्मा को करीब 18 हजार वोटों के अंतर से हराकर कठुआ जिले की बिलावर सीट से जीता था।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹3750 Cashback
  • I Kall K3 Golden 4G Android Mobile Smartphone Free accessories
    ₹ 3999 MRP ₹ 5999 -33%
    ₹0 Cashback

निर्मल सिंह के पिता राज्य के तत्कालीन महाराजा के सुरक्षा दस्ते में शामिल थे। जम्मू विश्वविद्यालय में इतिहास के प्रोफेसर कठुआ तहसील के बशोली क्षेत्र में करानवाड़ा-साबर इलाके से ताल्लुक रखते हैं। सिंह ने 1988 में जम्मू विवि से इतिहास में पीएचडी की थी। विधानसभा में चुने जाने से पहले तक वह इसी विवि में इतिहास के प्रोफेसर के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे थे। लंबे समय तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के समर्थक रहे भाजपा नेता निर्मल सिंह को जम्मू क्षेत्र में पार्टी के उत्थान का श्रेय दिया जाता है। सिंह ने काफी छोटी उम्र में ही राजनीतिक गतिविधियों में रुचि लेनी शुरू कर दी थी। साल 1975 में आपातकाल के दौरान उन्हें गिरफ्तार भी किया गया था।

साल 2014 में वह डोडा-उधमपुर लोकसभा सीट के लिए भाजपा के तगड़े दावेदारों में शामिल थे। लेकिन जितेंद्र सिंह से उन्हें मात खानी पड़ी थी। इसके बाद लोकसभा चुनाव से पूर्व वह सुर्खियों से दूर रहे लेकिन जम्मू कश्मीर प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाए जाने के बाद उन्होंने पूरे जोश के साथ काम किया। सिंह का जन्म 22 जनवरी 1956 को कठुआ जिले के करानवाड़ा-बसोली क्षेत्र में एक विनम्र परिवार में हुआ था। वह अपने परिवार में तीन भाइयों में सबसे छोटे हैं। देश के विभिन्न भागों में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लिए काम करने के बाद सिंह जम्मू लौट आए और जम्मू विवि के इतिहास विभाग में बतौर व्याख्याता काम करने लगे। उन्हें 1998 में प्रदेश भाजपा महासचिव बनाया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App