scorecardresearch

रात के कर्फ्यू ने बढ़ाई कैब चालकों की परेशानियां

कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए मामलों ने सभी के लिए परेशानियां एक बार फिर से बढ़ा दी हैं। इस मद्देनजर कई दिनों से दिल्ली-एनसीआर में रात्रि कर्फ्यू की व्यवस्था की गई है।

रात के कर्फ्यू ने बढ़ाई कैब चालकों की परेशानियां

निर्भय कुमार पांडेय

कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए मामलों ने सभी के लिए परेशानियां एक बार फिर से बढ़ा दी हैं। इस मद्देनजर कई दिनों से दिल्ली-एनसीआर में रात्रि कर्फ्यू की व्यवस्था की गई है। रात दस बजे से लेकर पांच बजे तक कर्फ्यू लगाता है। वहीं, दिल्ली सरकार ने साप्ताहंत पर भी कर्फ्यू लगाने की बात कही है। ऐसे में उन वाहन चालकों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, जो रात के वक्त वाहन चलाते हैं।

राजधानी में बड़ी संख्या में ऐसे चालक हैं, जो किराए पर ई-रिक्शा, आटो और ऐप अधारित कैब चलाते हैं, पर रात्रि कर्फ्यू लग जाने की वजह से रात में सवारी नहीं मिलती। ऐसे में चालकों को वाहन के प्रतिदिन का किराया जुटाने की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वाहन चालक बताते हैं कि यदि यही हालत रहे तो आगामी दिनों में खाने-पीने की भी दिक्कतें होने लगेंगी। न्यू अशोक नगर निवासी रामजी यादव ने बताया कि वह आटो चलाते हैं। रात के दस बजे से लेकर सुबह के छह बजे तक वह आटो किराए पर लेते है। हर दिन का किराया 500-600 रुपए मालिक को देना होता था। लेकिन जब से दिल्ली-एनसीआर में रात्रि कर्फ्यू लगा है, तब से उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। उसने बताया कि रात के वक्त सवारी नहीं मिलती।

ऐसे में हर दिन 500 रुपए कैसे कमाए जा सकते हैं। पहले होटल और कारखानों में रात की पाली में काम करने वाले लोग मिलते थे। लेकिन अब केवल वे लोग मिलते हैं, जिन्हें या तो रेलवे स्टेशन जाना होता है या फिर हवाईअड्डा। रात भर वाहन चाला कर इतना भी रुपए नहीं कमा पा रहे कि रोजमर्रा के खर्च उठा पाएं। वहीं, दल्लुपूरा गांव में रहने वाले ऐप अधारित कैब चालक संतोष पाल ने बताया कि रेलवे स्टेशन और हवाईअड्डा पर हर कोई सवारी नहीं बैठा सकता। चालकों के लिए स्टैंड निर्धारित हैं। रेलवे स्टेशन और हवाईअड्डा पर इतनी जगह नहीं होती कि कुछ समय के लिए इंतजार किया जाए। इन दोनों स्थानों पर पहले से ही निर्धारित चालक सवारियों का इंतजार करते हैं। वाहन चालकों की संख्या ज्यादा और सवारी संख्या में कम होने पर भी परेशानी बहुत ज्यादा हैं।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 05-01-2022 at 02:23:19 am
अपडेट