ताज़ा खबर
 

NGT का बिजली कंपनियों को आदेश, दिल्ली में पेड़ों पर लिपटे तार हटाए जाएं

NGT ने राष्ट्रीय राजधानी में बिजली वितरण कंपनियों को निर्देश दिए हैं कि वे पेड़ों के चारों ओर लिपटे हाई टेंशन वाले तारों को जल्दी हटाएं।

Author नई दिल्ली | Published on: May 1, 2016 11:20 AM
NGT Delhi, NGT DIESEL Bus, Delhi DIESEL Bus, NGT News, NGT latest newsराष्ट्रीय हरित अधिकरण

NGT (राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण) ने पेड़ों के चारों ओर लिपटे हाई टेंशन वाले तारों को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है। NGT ने राष्ट्रीय राजधानी में बिजली वितरण कंपनियों को निर्देश दिए हैं कि वे इन तारों को जल्दी हटाएं। न्यायमूर्ति यू डी साल्वी की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन लिमिटेड, बीएसईएस राजधानी पावर लिमिटेड और बीएसईएस यमुना पावर लिमिटेड पर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में उनके लाइसेंस के तहत आने वाले क्षेत्रों के पेड़ों पर लिपटे तार उतारने के काम का जिम्मा रहेगा। यह काम अगले 20 सप्ताह में पूरा हो जाना चाहिए।

NGT ने इन कंपनियों को ये भी निर्देश दिए कि वे ऊपर से जा रहे बिजली के तारों को छू रहीं पेड़ों की शाखाओं को काट कर छोटी करने के लिए निकाय प्रशासन के साथ सहयोग करें। गौरतलब है कि 23 मार्च को, न्यायाधिकरण ने पेड़ों पर हाई टेंशन तारें लगाने के लिए बिजली वितरण कंपनियों को फटकार लगाई थी। न्यायाधिकरण ने चेतावनी देते हुए कहा था कि यदि तार नहीं हटाए गए तो शीर्ष अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। NGT ने सभी नगर निगमों और संबंधित विभागों को भी निर्देश दिए थे कि वे दो सप्ताह के भीतर पेड़ों की जड़ों के आसपास जमीन की सतह पर लगी कंकरीट को हटाए जाने के अनुपालन से जुड़ी रिपोर्टें दाखिल करें।

NGT ने पिछले साल दिल्ली अर्बन शेल्टर इम्प्रूवमेंट बोर्ड, बीएसईएस राजधानी पावर लिमिटेड, बीएसईएस यमुना पावर लिमिटेड और नॉर्थ दिल्ली पावर लिमिटेड को पेड़ों के चारों ओर तार लपेटने के मामले में नोटिस जारी किए थे। वर्ष 2013 में, NGT ने नगर निकायों और दिल्ली विकास प्राधिकरण समेत सार्वजनिक प्राधिकरणों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए थे कि राष्ट्रीय राजधानी में पेड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले साइन बोर्ड, विज्ञापन, तार एवं अन्य चीजें और उनकी जड़ों के आसपास जमीन की सतह पर लगाए गए कंकरीट को तत्काल हटाया जाए।

पीठ वकील आदित्य एन प्रसाद की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। याचिका में आरोप लगाया गया कि दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में पेड़ों की जड़ों के आसपास जमीन की सतह पर किए गए कंकरीट निर्माण से उनकी जड़ें कमजोर होती हैं और अंतत: वे मर जाते हैं।

Read Also: NGT ने मांगी धूल प्रदूषण फैलाने वाले बिल्डरों की सूची

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories