ताज़ा खबर
 

एनजीटी ने दिल्ली में हुक्का बारों के खिलाफ वारंट जारी किया

राष्ट्रीय हरित अधिकरण :एनजीटी: ने शहर के उन रेस्त्रां और बार के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया जो अपने परिसर के भीतर हुक्का पीने की अनुमति देते हैं।

Author नई दिल्ली | November 29, 2017 10:59 PM
फ्लेवर्ड हुक्का सिगरेट से ज्यादा खतरनाक होता है।

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने शहर के उन रेस्त्रां और बार के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया जो अपने परिसर के भीतर हुक्का पीने की अनुमति देते हैं। इन रेस्त्रां और बारों को नोटिस जारी करने के बावजूद हरित अधिकरण के समक्ष उपस्थित नहीं होने पर ये वारंट जारी किये गए हैं। एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने तकरीबन 25 हुक्का बार को वारंट जारी किया। उनसे एनजीटी के समक्ष अपना जवाब दाखिल करने को कहा गया था।

सुनवाई के दौरान हरित अधिकरण ने अधिकारियों से सख्ती से इन रेस्त्रां और बारों का नियमन करने को कहा और चेतावनी दी कि किसी भी पर्यावरण प्रदूषण की स्थिति में वह उन्हें बंद करने का आदेश देगी। मामले पर अंतिम सुनवाई की तारीख चार दिसंबर को निर्धारित की गई है। एनजीटी में इन हुक्का बारों के खिलाफ याचिका भाजपा विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने दायर की थी। एनजीटी ने नौ अक्तूबर को पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, दिल्ली सरकार, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति और विभिन्न हुक्का बार मालिकों को नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा था।

बता दें कि इसी साल के अगस्त में दक्षिण दिल्ली के एक फॉर्म हाउस में चल रहे एक बड़े कसीनो का भंड़ाफोड़ हुआ था। इस फॉर्म हाउस में कई फिल्मों व टीवी सीरियल की शूटिंग भी हो चुकी है। इस दौरान पुलिस ने दबिश देकर 14 युवकों और 5 महिलाओं समेत 30 लोगों को गिरफ्तार किया था। इसके साथ पुलिस ने 13 लक्जरी कारों को भी जब्त कर सीज कर दिया था। पुलिस ने यहां से बड़ी संख्या में शराब की बोतलें, 3,000 कैसीनो चिप्स, ताश के पत्ते, हुक्के और दूसरी चीजें बरामद की है। पिछले साल अक्टूबर में दक्षिण दिल्ली के वसंत कुंज इलाके से कसीनों में पुलिस ने दबिश देकर 8 लोगों को गिरफ्तार किया था। पुलिस ने सूचना के आधार पर जब फॉर्म हाउस में दबिश दी तब यहां टोकन और काउंटर मनी के ढेर लगे थे। शराब और हुक्के का मजा लेने का पूरा इंतजाम था। लेकिन पुलिस ने ग्राहकों की भीड़ लगने से पहले ही दबिश देकर और 14 ग्राहकों समेत कुल 30 लोग गिरफ्तार किए गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App