ताज़ा खबर
 

पानी की तलाश में कर रहे थे कुएं की खुदाई, गड़े मिले हजारों आधार कार्ड

जिला कलेक्टर की ओर से आदेश दिया गया है कि इस बात का पता लगाया जाए कि क्या ये सभी कार्ड्स राजस्व विभाग के कर्मचारियों या भारतीय डाक सेवाओं की निगरानी में थे या नहीं। राजेश देशमुख ने तहसीलदार सचिन शेजल को इस मामले की जांच करने का आदेश दे दिया है।

महाराष्ट्र के यवतमाल में कुछ युवाओं ने गंदे कुएं में से हजारों आधार कार्ड बरामद किए हैं। युवाओं को कुएं का सफाई के दौरान एक प्लास्टिक के बैग के अंदर ये आधार कार्ड मिले हैं। दरअसल, गर्मी आने के साथ-साथ यवतमाल में पानी की किल्लत होना भी शुरू हो गई है। इस समस्या को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने कंस्ट्रक्शन साइट्स पर पानी के इस्तेमाल पर रोक लगाने के साथ-साथ नगरपालिका अधिकारियों और जीवन प्राधिकरण को जिले के गांवों में मौजूद कुओं को साफ करने का आदेश दिया था। पानी की समस्या के समाधान के लिए जिला कलेक्टर राजेश देशमुख की तरफ से उठाए गए इस कदम का कई एनजीओ ने स्वागत किया और गंदे कुओं को साफ करने के लिए आगे भी आए। एनजीओ के कुछ युवा कार्यकर्ता रविवार को शिंदे नगर इलाके के साईं मंदिर परिसर में स्थित कुएं की सफाई कर रहे थे, इस दौरान उन्हें कुएं के अंदर बड़ा सा प्लास्टिक का बैग मिला, जिसमें हाजारों आधार कार्ड रखे हुए थे। बैग ऊपर ना आए इसलिए इसमें पत्थर भी भरे गए थे।

टीओआई के मुताबिक आधार कार्ड्स की हालत खराब हो गई है, लेकिन कुछ-कुछ आधार कार्ड्स में लोगों के नाम लिखे दिख रहे हैं। इस आधार पर इन्हें यवतमाल के लोहारा गांव के निवासियों का बताया जा रहा है। इस मामले में जिला कलेक्टर के पास शिकायत दर्ज की गई, जिसके बाद इस मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं। जिला कलेक्टर की ओर से आदेश दिया गया है कि इस बात का पता लगाया जाए कि क्या ये सभी कार्ड्स राजस्व विभाग के कर्मचारियों या भारतीय डाक सेवाओं की निगरानी में थे या नहीं। राजेश देशमुख ने तहसीलदार सचिन शेजल को इस मामले की जांच करने का आदेश दे दिया है। उन्होंने कहा, ‘इस मामले में जो भी दोषी पाया जाता है उसे नहीं छोड़ा जाएगा।’ यवतमाल मुख्यालय पोस्ट ऑफिस के चीफ पोस्ट मास्टर आनंद सरकार ने कहा कि उन्होंने कुएं के अंदर से बरामद हुए आधार कार्ड का पंचनामा करने के लिए एक टीम का गठन कर दिया है। रिपोर्ट मिलने के तुरंत बाद ही एक्शन लिया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App