ताज़ा खबर
 

दुनिया के राष्ट्राध्यक्षों ने पहला टीका खुद लगवाया, पर 56 इंची मोदी क्यों डर रहे- डिबेट में बोले सलमान निजामी तो मिला जवाब

डिबेट में सलमान निजामी ने कहा कि कोरोना वैक्सीन पर तीसरे चरण का ट्रायल भी नहीं किया गया। भोपाल गैस त्रासदी के पीड़ितों पर ट्रायल किया गया। इसमें भी एक व्यक्ति की मौत हो गई।

news18 india debateटीवी डिबेट में सलमान निजामी और अमिश देवगन में खूब बहस हुई। (वीडियो स्क्रीनशॉट)

कांग्रेस नेता सलमान निजामी ने कोरोना वायरस की वैक्सीन पहले खुद ना लगवाने पर पीएम नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने एक टीवी डिबेट में दुनिया के राष्ट्राध्यक्षों का हवाला दे कहा कि सभी ने लोगों की शंकाओं को दूर करने के लिए पहला टीका खुद लगवाया। बतौर राजनीतिक विश्लेषक न्यूज18 इंडिया के डिबेट शो में निजामी ने कहा- 56 इंची सीने वाले पीएम मोदी वैक्सीन लगवाने से क्यों डर रहे हैं? मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज चौहान भी टीका लगवाने से मना कर चुके हैं। बाबा रामदेव भी इनकार कर चुके हैं।

बकौल निजामी- कोरोना वैक्सीन पर तीसरे चरण का ट्रायल भी नहीं किया गया। भोपाल गैस त्रासदी के पीड़ितों पर ट्रायल किया गया। इसमें भी एक व्यक्ति की मौत हो गई। अन्य लोग बीमार पड़ गए। गरीबों पर टीका क्यों लगाया जा रहा है? इस पर एंकर अमिश देवगन ने उन्हें बीच टोकते हुए पूछा कि आपके पंजाब में दो लाख वैक्सीन के डोज क्यों मंगवाए गए? आप टीके को खराब बताकर कुछ भी अफवाह उड़ाकर चले जाएंगे? आप इस देश में आखिर चाहते क्या हैं? ऐसा नहीं चलेगा।

बता दें कि दुनिया भर के कई देशों ने कोरोनो वायरस महामारी के खिलाफ राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू किया है। दुनिया में कई राष्ट्राध्यक्षों ने अपने नागरिकों की आशंकाओं को दूर करने के लिए खुद कोविड-19 वैक्सीन का टीका लगवाया। अमेरिका के बाइडेन से लेकर इस्राइल के नेतन्याहू तक सभी ने कोविड-19 वैक्सीन का डोज लिया। हालांकि भारत के पीएम मोदी पहले खुद टीके का डोज ना लेने पर विपक्ष के निशाने पर हैं। मगर केंद्र सरकार स्पष्ट कर चुकी है कि टीका पहले कोरोना वॉरियर्स को लगेगा।

उल्लेखनीय है कि देश में शनिवार से टीकाकरण अभियान शुरू हो चुका है। अब तक कुल 2,24,301 लाभार्थियों को टीका लगाया गया है। रविवार का दिन होने के चलते आज सिर्फ छह राज्यों ने कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान चलाया और कुल 17,072 लाभार्थियों को टीका लगाया गया। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया- टीका लगाए जाने के बाद अब तक कुल 447 प्रतिकूल प्रभाव के मामले सामने आए हैं। इनमें से सिर्फ तीन मामलों में टीका लगवाने वाले व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ी। टीका लगाने के बाद प्रतिकूल प्रभाव के ज्यादातर मामलों में बुखार, सिरदर्द, उल्टी जैसी स्वास्थ्य संबंधी मामूली समस्याएं देखने को मिली हैं।

Next Stories
1 बिहार: शाहनवाज के टिकट पर सियासी हलकों में चर्चा- क्या पार्टी में घटाया जा रहा हुसैन का कद या राज्य में बीजेपी का मुस्लिम चेहरा पेश करने का प्रयास!
2 किसान आंदोलन: ट्रैक्टर परेड के लिए हरियाणा के गांवों में लोगों से दान करने की अपील
3 कर्नाटक के कई क्षेत्रों को महाराष्ट्र में शामिल करेंगे- सीएम उद्धव ठाकरे का ऐलान
ये पढ़ा क्या?
X