वर्ल्ड फूड इंडिया: एक टन खिचड़ी में छौंक लगाएंगे रामदेव, मसाले भी उपलब्ध करा रहा पतंजलि - World Food India: Ramdev will make a tonne of khichadi, spices also available - Jansatta
ताज़ा खबर
 

वर्ल्ड फूड इंडिया: एक टन खिचड़ी में छौंक लगाएंगे रामदेव, मसाले भी उपलब्ध करा रहा पतंजलि

ऐसा पहला मौका है कि जब मोदी सरकार इतने बड़े लेवल पर भारतीय खानों को प्रमोट कर रही है।

इस आयोजन का उद्देश्य दुनिया को भारत के इस पौष्टिक आहार के बारे में बताना है। (ट्विटर फोटो)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को वर्ल्ड फूड इंडिया फेस्ट‍िवल कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पतंजलि के प्रयासों की सराहना की। शनिवार (4 नवंबर) को इस फेस्टिवल में खिचड़ी बनाई जाएगी। जिसमें पतंजलि निर्मित गाय का शुद्ध देशी घी इस्तेमाल किया जाएगा। खबर के अनुसार तीन दिन तक चलने वाले इस कार्यक्रम में करीब एक टन खिचड़ी बनाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया जाएगा। कार्यक्रम की खास बात ये है कि खिचड़ी में छौंक खुद बाबा रामदेव लगाएंगे। इस दौरान खिचड़ी को ब्रांड इंडिया फूड के तौर पर प्रमोट किया जाएगा। रामदेव के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने बताया कि रामदेव ना सिर्फ खिचड़ी बनाने के वक्त मौजूद रहेंगे बल्कि उसमें छौंक लगाने का काम भी करेंगे। पतंजलि खुद इस आयोजन के लिए मसाले मुहैया करा रहा है। गौरतलब है कि हाल के दिनों खिचड़ी को राष्ट्रीय भोजन घोषित करने की मांग उठी थी। लेकिन केंद्रीय मंत्री हरसिमरन कौर ने साफ किया है कि सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है। उन्होंने आगे कहा है कि वर्ल्ड फूड इंडिया के आयोजन में करीब एक टन खिचड़ी बनाने का रिकॉर्ड बनाना है।

गौरतलब है कि पतंजलि फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में देश की सबसे बड़ी इंवेस्ट करने वाली सबसे बड़ी स्वदेशी कंपनी बन गई है। इसने दस हजार करोड़ रुपए रुपए का निवेश भारत सरकार के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किया है। इस दौरान पर खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल एवं सचिव जगदीश प्रसाद मीणा मौजूद रहे। जानकारी के लिए बता दें कि खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने तीन दिन तक चलने वाले इस फेस्ट‍िवल के संबंध में कहा है कि 4 नवंबर को सात फीट चौड़ी और एक हजार लीटर क्षमता वाली कढ़ाही में 800 किलोग्राम खिचड़ी बनाई जाएगी, जो विश्व कीर्तिमान स्थापित करेगा। इसमें चावल के साथ कई तरह की दालें और सब्जियां भी डाली जाएंगी। उन्होंने कहा कि इस आयोजन का उद्देश्य दुनिया को भारत के इस पौष्टिक आहार के बारे में बताना है। ऐसा पहला मौका है कि जब मोदी सरकार इतने बड़े लेवल पर भारतीय खानों को प्रमोट कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App