ताज़ा खबर
 

देश में खून बहेगा, गृहयुद्ध होगा, NRC के जरिये लोगों को बांटने की कोशिश- ममता बनर्जी

ममता बनर्जी ने कहा कि यदि बंगाली कहे कि बिहारी बंगाल में नहीं रह सकते हैं, दक्षिण भारतीय कहे कि उत्तर भारतीय वहां नहीं ठहर सकते, उत्तर भारतीय कहे कि दक्षिण भारतीय यहां नहीं रह सकते, तो इस देश की हालत क्या होगी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री अब सूबे के विकास के लिए निवेश जुटाने के प्रति काफी संजीदा लग रही हैं।

 पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि असम के नेशनल सिटीजन रजिस्टर के पीछे सियासी मकसद है और वे इस मकसद को कामयाब नहीं होने देंगी। ममता बनर्जी ने दिल्ली में कैथोलिक बिशप कॉन्फ्रेंस में शिरकत करते हुए कहा कि उन्हें यह जानकर हैरानी हुई है कि पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के परिवार वालों का नाम इस लिस्ट में नहीं है, इसके बारे में और क्या कहा जा सकता है। ममता बनर्जी ने कहा कि कई ऐसे लोग हैं जिनका नाम इस लिस्ट में नहीं हैं। ममता बनर्जी बीजेपी की अगुवाई में चल रही केन्द्र सरकार पर हमला बोला और कहा कि बीजेपी देश बांटो और राज करो की नीति अपना रही है। उन्होंने कहा, “वे लोग लोगों को बांटने की कोशिश कर रहे हैं, देश में रक्तपात और गृह युद्ध होगा।” ममता बनर्जी ने कहा कि कल को 40 लाख से ज्यादा लोगों ने सत्ताधारी पार्टी को वोट दिया और आज अचानक इन्हें अपने ही देश में रिफ्यूजी बना दिया गया है।

ममता बनर्जी ने कहा कि सिर्फ चुनाव जीतने के लिए ही लोगों पर अत्याचार नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा, “क्या आप समझते हैं जिन लोगों का नाम लिस्ट में नहीं है क्या वे अपनी पहचान का एक हिस्सा खो देंगे…कृपया समझिए कि बंटवारे के पहले भारत-पाकिस्तान और बांग्लादेश एक थे, मार्च 1971 तक बांग्लादेश से जो भी लोग भारत में आए वो भारत के नागरिक हैं।” ममता बनर्जी ने कहा कि यदि बंगाली कहे कि बिहारी बंगाल में नहीं रह सकते हैं, दक्षिण भारतीय कहे कि उत्तर भारतीय वहां नहीं ठहर सकते, उत्तर भारतीय कहे कि दक्षिण भारतीय यहां नहीं रह सकते, तो इस देश की हालत क्या होगी, हमलोग एक साथ हैं इसलिए ये पूरा देश परिवार है। ममता बनर्जी के बयान पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बयान दिया है। अमित शाह ने कहा है कि गृह युद्ध का भय फैलाकर एक बार देश को तोड़ चुके हैं, टीएमसी इस बावत क्या कहना है, पार्टी को इस पर अपना स्टैंड स्पष्ट करना चाहिए। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि एनआरसी ड्राफ्ट के खिलाफ बोलने वाली पार्टियां, जैसे कि कांग्रेस, टीएमसी और दूसरे दलों को बांग्लादेशी घुसपैठियों पर अपना रुख साफ करना चाहिए।

Next Stories
1 NRC पर BJP के पक्ष में बोले AAP नेता, पूछा- ड्राफ्ट का विरोध करने वाले सचमुच देश के प्रतिनिधि हैं?
ये पढ़ा क्या?
X