ताज़ा खबर
 

विजय गोयल ने उठाई तीनों निगमों को एक करने की मांग

पार्षदों को ट्रेनिंग देने में इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि ब्यूरोके्रसी व जनता से जुड़े विभिन्न विषयों पर वे कुशलता से काम कर सकें और समस्याओं का समाधान कर सकें।

Author नई दिल्ली | April 26, 2017 4:01 AM
केंद्रीय राज्य मंत्री विजय गोयल ।

केंद्रीय मंत्री विजय गोयल का कहना है कि दिल्ली के तीनों निगमों को अगर एक कर दिया जाए, तो राजधानी की समस्याएं कम हो सकती हैं। वे निगम चुनाव में भाजपा की संभावित जीत पर आने वाले दिनों में रणनीति के बारे में बात कर रहे थे। गोयल ने कहा कि शीला दीक्षित की सरकार के समय जल्दबाजी में दिल्ली नगर निगम का बंटवारा तीन हिस्सों में कर दिया गया, लेकिन बस एक निगम को छोड़कर बाकी सभी भारी नुकसान में हैं। अगर इनका विलय कर दिया जाए तो काम ज्यादा बेहतर तरीके से और जल्दी होगा।  गोयल ने कहा कि नए पार्षदों को विशेष ट्रेनिंग दी जाएगी, जिससे जन कल्याण नीतियों व गुड गर्वनेंस पर बल दिया जाएगा। पार्षदों को ट्रेनिंग देने में इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि ब्यूरोके्रसी व जनता से जुड़े विभिन्न विषयों पर वे कुशलता से काम कर सकें और समस्याओं का समाधान कर सकें। गोयल ने निगम चुनाव के लिए जारी किए गए कांग्रेस के घोषणापत्र को झूठे चुनावी वादों का पुलिंदा बताया। उन्होंने कहा कि केंद्र की कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने एक से बढ़कर एक घोटाले किए। गले तक भ्रष्टाचार में डूबी पार्टी के इस वादे पर दिल्ली की जनता बिल्कुल भरोसा नहीं करेगी। उन्होंने दिल्ली कांग्रेस के शहरी गरीबी मिटाने के वादे को भी अर्थहीन बताया और बोला कि काठ की हांडी बार-बार नहीं चढ़ती। इंदिरा गांधी ने भी गरीबी हटाओ का नारा दिया था, लेकिन कांग्रेस देश की गरीबी कभी नहीं मिटा पाई, बल्कि गरीब और गरीब होता चला गया।

गोयल ने कहा कि भाजपा पर खोखले वादों का आरोप लगाने से पहले दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन अपने गिरेबान में झांककर देखें। भाजपा जो कहती है, वह करके दिखाती है, जिसका सबसे बड़ा उदाहरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोक-कल्याणकारी नीतियां और उनकी सफलता है। जनता ने भी प्रधानमंत्री की नीतियों को दिल से स्वीकारा है और सराहना भी की है। गोयल ने दिल्ली कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरविंदर सिंह लवली का भाजपा में शामिल होने पर स्वागत किया और कहा कि कांग्रेस से अपना घर भी नहीं संभल रहा, उसके वरिष्ठ नेता उससे नाता तोड़ रहे हैं। गोयल ने यह भी कहा कि कांग्रेस इस बार किस्तों में अपना चुनावी घोषणापत्र जारी करके भले ही कुछ नया कर दिखाने की कोशिश में है, लेकिन जनता का भरोसा कांग्रेस से उठ चुका है और यह दर्शाता है कि कांग्रेस के पास दूरगामी एजंडे की कमी है।

 

मुंबई: एक लीटर पेट्रोल पर 153 फीसदी टैक्स लगाती है सरकार, जानिए क्या है असली कीमत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App