ताज़ा खबर
 

डीयू में दूसरी कटआॅफ के आधार पर प्रवेश लेने का आखिरी मौका आज

ल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के कॉलेजों में दूसरी कटआॅफ के आधार पर दाखिला लेने का मंगलवार को आखिरी मौका है।

नई दिल्ली | July 4, 2017 4:19 AM
दिल्ली विश्वविद्यालय।

दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के कॉलेजों में दूसरी कटआॅफ के आधार पर दाखिला लेने का मंगलवार को आखिरी मौका है। इसके अलावा पहली कटआॅफ में किसी कारण प्रवेश नहीं ले पाए छात्रों को भी 4 जुलाई को ही दाखिले का अवसर मिलेगा।  श्री अरबिंदो कॉलेज के प्राचार्य डॉ विपिन अग्रवाल ने बताया कि जिस विद्यार्थी का दूसरी कटआॅफ में नंबर आया है, उसे तुरंत दाखिला ले लेना चाहिए क्योंकि हो सकता है कि आगे अवसर न मिले। उन्होंने बताया कि पहली कटआॅफ में दाखिला लेने से चूके विद्यार्थियों को भी मंगलवार को कॉलेजों में जाकर वहां सीटों की स्थिति पता करनी होगी। अगर कॉलेज में सीट उपलब्ध होंगी तो उन्हें पहली कटआॅफ के आधार पर ही प्रवेश मिल सकता है।

श्री अरबिंदो कॉलेज में सोमवार को जहां 167 छात्रों ने दाखिला लिया वहीं 44 ने प्रवेश रद्द भी कराया। कॉलेज में अब तक कुल 683 दाखिले हो चुके हैं। इसी तरह आत्माराम सनातन धर्म (एआरएसडी) कॉलेज के प्राचार्य डॉ ज्ञानतोष कुमार झा ने बताया कि उनके यहां सोमवार तक कुल 430 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है। दूसरी कटआॅफ के बाद 172 छात्रों ने दाखिला लिया है जबकि 16 ने प्रवेश रद्द भी कराया है। डॉ झा ने बताया कि अगर अभिभावक और विद्यार्थी यह सोच रहे हैं कि अगली कटआॅफ में उन्हें उनके पसंदीदा कॉलेज में जगह मिल जाएगी तो इसकी संभावना कम है क्योंकि जैसे-जैसे आगे की कटआॅफ आएगी सीटें भरती चली जाएंगी।  अर्थशास्त्र आॅनर्स में 95% से कम पर 9 कॉलेजों में मौका बीए (आॅनर्स) अर्थशास्त्र को लेकर डीयू के कॉलेजों में सबसे अधिक मारामारी चल रही है। इसकी दूसरी कटआॅफ भी आसमान छू रही है। डीयू के 38 कॉलेजों में अर्थशास्त्र आॅनर्स की पढ़ाई होती है और इनमें से सिर्फ 9 कॉलेजों में ही 95 फीसद से कम पर सीटें उपलब्ध हैं। इतना ही नहीं, पांच कॉलेजों ने तो पहली कटआॅफ के बाद ही इस पाठ्यक्रम में प्रवेश बंद कर दिए हैं।

पीजीडीएवी (सांध्य) में टोकन व्यवस्था से प्रवेश प्रक्रिया में राहत डीयू के पीजीडीएवी (सांध्य) कॉलेज में प्रवेश के लिए आने वाले विद्यार्थियों के लिए कॉलेज प्रशासन ने टोकन व्यवस्था का इंतजाम किया है। कॉलेज के प्राचार्य डॉ रवींद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि हमने भीड़ की परेशानी से बचाने के लिए टोकन व्यवस्था शुरू की है। वहीं, प्रवेश की प्रतीक्षा कर रहे प्रतिभागी और उसके परिजनों के बैठने के लिए एसी कक्ष व अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। प्रतीक्षा कक्ष में डाक्यूमेंट्री से कॉलेज की गतिविधियों की जानकारी दी जाती है। एनसीसी कैडेट पूरी प्रक्रिया में नए विद्यार्थियों का पूरा सहयोग करते हैं। विद्यार्थी को दाखिले के दौरान कहीं भटकना न पड़े, इसके लिए नंबर से उन्हें रास्तों और कमरों की जानकारी दी जाती है।

 

Next Stories
1 कपिल ने विधानसभा अध्यक्ष को कहा ‘धृतराष्ट्र’, मार्शल पकड़कर ले गए बाहर
2 किताब में मस्जिद को ध्वनि प्रदूषण फैलान वाले स्त्रोत के रूप में दिखाने पर प्रकाशक ने माफी मांगी
3 मानसून की आमद : कहीं राहत, कहीं आफत
यह पढ़ा क्या?
X