ताज़ा खबर
 

ओएसडी की गिरफ्तारी के बाद तीन जगह छापेमारी

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मतदान से ऐन पहले माधव की गिरफ्तारी की सीबीआइ कार्रवाई को लेकर राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप सामने आए हैं।

Updated: February 8, 2020 3:50 AM
माधव को एक बिचौलिए की ओर से मिली सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया गया।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के ओएसडी गोपाल कृष्ण माधव की गिरफ्तारी के बाद अन्य एक आइएएस अधिकारी उदित प्रकाश राय के परिसरों पर शुक्रवार को छापे मारे। अधिकारियों ने बताया कि माधव को एक बिचौलिए की ओर से मिली सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया गया। इस बिचौलिए को बुधवार को पकड़ा गया था, जो ओएसडी की तरफ से ट्रांसपोर्टरों से कथित तौर पर रिश्वत लेता था। गुरुवार की रात के एक अभियान में माधव को गिरफ्तार किया गया। सीबीआइ के अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली सरकार के कई और अधिकारी मामले में एजंसी की जांच के दायरे में हैं।

हालांकि, सीबीआइ को अब तक इस मामले में सिसोदिया की संलिप्तता का नहीं पता चला है। सीबीआइ अधिकारियों के मुताबिक, पूछताछ के दौरान माधव ने आइएएस अधिकारी राय की संलिप्तता का आरोप लगाया है, जिसके बाद जांच एजंसी ने सिविल लाइंस में उनके परिसरों की तलाशी ली।

राय असम-मेघालय और अरुणाचल प्रदेश-गोवा-मिजोरम-केंद्र शासित प्रदेश (कैडर) के 2007 बैच के आइएएस अधिकारी हैं। सीबीआइ के अधिकारियों ने माधव और आइटीओ इलाके में स्थित जीएसटी विभाग के अन्य अधिकारियों के कार्यालयों में भी छापे मारे। सीबीआइ ने रोहिणी में माधव के घर और वजीराबाद इलाके में धीरज गुप्ता के घर पर भी छापे मारे। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मतदान से ऐन पहले माधव की गिरफ्तारी की सीबीआइ कार्रवाई को लेकर राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप सामने आए हैं।

Next Stories
1 Delhi Election 2020: वोटिंग से पहले मुश्किल में केजरीवाल, शोले के गब्बर मामले में दर्ज हुई FIR, आयोग ने भी आचारसंहिता उल्लंघन में थमाया नोटिस
2 PM मोदी ने कहा – असम के साथ गलत करने वालों को देश न बर्दाश्त करेगा, और न माफ करेगा
3 Delhi Election 2020: सिख मतदाताओं के असर वाली सीटों का कौन होगा सरदार
ये पढ़ा क्या?
X