ताज़ा खबर
 

बलात्कार के समान है ‘वेश्यावृति’: स्वाति मालीवाल

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने वेश्यावृति के प्रति समाज के दृष्टिकोण की निंदा करते हुए कहा कि यही दृष्टिकोण यौनकर्मियों के बलात्कार..

Author August 4, 2015 9:44 PM
दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने वेश्यावृति के प्रति समाज के दृष्टिकोण की निंदा करते हुए कहा कि यही दृष्टिकोण यौनकर्मियों के बलात्कार का समर्थन करता है। वेश्यावृति को बलात्कार के समान बताते हुए मालीवाल ने कहा कि यह समाज पर एक दाग है और शासन की दृढ़ प्रतिक्रिया से इसका उन्मूलन करने की जरूरत है।

हर महीने जीबी रोड के रेडलाइट इलाके में बड़ी संख्या में कंडोम कथित रूप से वितरित किए जाने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि छह लाख कंडोम का मतलब छह लाख बलात्कार जिसकी हम दिल्ली में इजाजत दे रहे हैं। उन्होंने यहां पैरवी नामक एक एनजीओ की ओर से भारत नेपाल सीमा पर मानव तस्करी, भूकंप पश्चात परिप्रेक्ष्य पर आयोजित संगोष्ठी में कहा कि आंकड़े ज्यादा ही हो सकते हैं क्योंकि नाबालिग लड़कियों के मामले सामने आते ही नहीं। हैरत की बात है कि मैंने पाया कि लोग इसे एक तरह से स्वीकार कर रहे हैं।

जीबी रोड का दौरा करने के बाद मैंने इसके बारे में ढेर सारे लोगों से बात की और उन्होंने कहा कि यदि आप रेडलाइट एरिया बंद करवा देती हैं तो बलात्कार बढ़ जायेंगे। मैं ऐसी मानसिकता की निंदा करती हूं। मालीवाल ने कहा कि आयोग के अध्यक्ष का पदभार ग्रहण करने के पश्चात उन्होंने जीबी रोड इलाके के निवासियों की समस्या अगले तीन साल में हल करने का संकल्प लिया।

शीघ्र ही शुरू होने वाली आयोग की तस्कर निरोधक समिति तस्करी से जुड़े मुद्दों पर केंद्र, राज्य और एनजीओ के साथ मिलकर काम करेगी। यहां के आश्रय गृह की स्थिति की चर्चा करते हुए मालीवाल ने कहा कि वह इसे सुधारने के लिए कृतसंकल्प हैं। उन्होंने कहा कि मैंने सुना है कि आश्रय गृह की स्थिति इतनी खराब है कि कई बार मुक्त कराई गई लड़कियां जीबी रोड वापस लौटना चाहती हैं।

उन्होंने कहा कि अधीक्षक भी 25 सालों तक नहीं बदलते हैं जिससे बड़ी साठगांठ का संकेत मिलता है। हम इन पहलुओं पर भी काम करेंगे और अपनी सिफारिशें देंगे तथा जबतक उन्हें स्वीकार नहीं किया जाता, तबतक उस दिशा में प्रयास करते रहेंगे। मालीवाल ने कहा कि दिल्ली महिला आयोग घरेलू सहायिकाओं के शोषण पर रोक लगाने के लिए दिल्ली की सभी प्लेसमेंट एजेंसियों के निरीक्षण का अभियान शुरू करेगा और पता लगाएगा कि वे पंजीकृत हैं या नहीं, उनके जरिए नौकरियां ढूंढ़ रही लड़कियों का रिकॉर्ड मांगेगा।

आनंद पर्वत इलाके में 19 साल की मीनाक्षी की हत्या का उल्लेख करते हुए मालीवाल ने कहा कि हम दिल्ली में महिला सुरक्षा पर एक अध्ययन करना चाहते हैं और केंद्र, राज्य सरकार एवं दिल्ली पुलिस के लिए सिफारिशें करेंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए, हम प्रायोगिक क्षेत्र के रूप में आनंद पर्वत को लेंगे और पुलिस से थाने में मिली सभी शिकायतों का ब्योरा उपलब्ध कराने को कहेंगे और जानना चाहेंगे कि प्राथमिकियां दर्ज हुईं या नहीं और यदि हुईं तो उन मामलों की स्थिति क्या है। मालीवाल ने पुलिस आयुक्त को महिलाओं के विरूद्ध अपराध की बढ़ती शिकायतों के बारे में सूचना मांगते हुए पत्र लिखा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App