ताज़ा खबर
 

‘स्वच्छ विद्यालय पहल’ के तहत अभी तक 1.94 लाख शौचालयों का निर्माण

देश भर के सभी स्कूलों को एक साल में शौचालय से युक्त करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वादे को पूरा करने के लिए सरकार मशक्कत कर रही है। वजह है कि 4.19 लाख शौचालय...

देश भर के सभी स्कूलों को एक साल में शौचालय से युक्त करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वादे को पूरा करने के लिए सरकार मशक्कत कर रही है। वजह है कि 4.19 लाख शौचालय बनाने के लक्ष्य में से अब तक करीब 1.94 लाख शौचालयों का ही निर्माण हो सका है। मोदी ने पिछले साल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने संबोधन में एक साल के अंदर सभी स्कूलों में शौचालय निर्माण का वादा किया था क्योंकि इस तरह की सुविधा के अभाव के कारण ही देश के अधिकतर क्षेत्रों में लड़कियां स्कूल नहीं जा पातीं।

स्वतंत्रता दिवस समारोहों में अभी बमुश्किल तीन हफ्ते ही बाकी हैं और ऐसे में पिछले हफ्ते संसद ने यह सूचित किया कि अब तक 2.86 लाख शौचालयों का निर्माण किया गया है। बहरहाल अंडमान एवं निकोबार, दमन एवं दीव, दादरा एवं नगर हवेली, केरल, पुडुचेरी और सिक्किम जैसे राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों ने 100 फीसद लक्ष्य हासिल किया है। मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में लिखित जवाब में बताया कि गुजरात और कर्नाटक इस लक्ष्य को हासिल करने के बेहद करीब हैं।

‘स्वच्छ विद्यालय’ पहल के तहत 4.19 लाख शौचालयों को पूरा करने का लक्ष्य है। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों ने 1.67 लाख शौचालयों जबकि निजी क्षेत्र ने 4,562 शौचालयों के निर्माण में सहयोग की प्रतिबद्धता दिखाई है। ‘स्वच्छ भारत कोष’ पहल के मद्देनजर शौचालय निर्माण की प्रतिबद्धता के तहत 1,600 शौचालयों का निर्माण किया गया है। बहरहाल इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए मंत्रालय आशान्वित है। साथ ही अभियान शीघ्र पूरा करने के लिए वरिष्ठ अधिकारी भी राज्यों का दौरा कर रहे हैं। राष्ट्रीय स्तर पर निरंतर आधार पर इसकी प्रगति पर निगरानी की जा रही है।

स्मृति ने बताया कि राज्यों के प्रमुख सचिवों, शिक्षा सचिवों, सर्व शिक्षा अभियान के राज्य परियोजना निदेशकों और केंद्रीय मंत्रालयों व केंद्रीय पीएसयू (सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों) के साथ बैठकें और वीडियो कॉन्फ्रेंस सम्मेलनों का आयोजन किया गया है। इसके अलावा ‘स्वच्छ विद्यालय’ पहल के तहत इसकी प्रगति की समीक्षा के लिए 310 केंद्रीय पर्यवेक्षकों को भी नियुक्त किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.