ताज़ा खबर
 

25 केंद्रीय विद्यालयों के आठवीं के सभी छात्रों को मिलेंगे टैबलेट

टैबलेट मिलने के बाद विद्यार्थियों को सभी किताबें स्कूल ले जाने की आवश्यकता नहीं होगी। इसके अलावा विद्यार्थी माइक्रोसॉफ्ट के नए जारी हुए मैसेजिंग ऐप ‘कैजाला’ के माध्यम से जुड़ेंगे।

Author नई दिल्ली | Published on: July 28, 2017 3:16 AM
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

केंद्रीय विद्यालय संगठन (केवीएस) आठवीं के विद्यार्थियों के लिए ‘अप्प दीप’ योजना की शुरुआत करने जा रहा है। इस योजना के तहत आठवीं कक्षा के सभी विद्यार्थियों को टैबलेट दिए जाएंगे, जिनमें उनका पूरा पाठ्यक्रम होगा। टैबलेट मिलने के बाद विद्यार्थियों को सभी किताबें स्कूल ले जाने की आवश्यकता नहीं होगी। इसके अलावा विद्यार्थी माइक्रोसॉफ्ट के नए जारी हुए मैसेजिंग ऐप ‘कैजाला’ के माध्यम से जुड़ेंगे। ऐप पर समूह बनाए जाएंगे जिनके माध्यम से छात्र न सिर्फ एक दूसरे से बल्कि अपने शिक्षकों से भी जुड़े रह सकेंगे। इसके अलावा विषय में आने वाली समस्या का समाधान भी छात्र ऐप पर बने समूह के माध्यम से अपने शिक्षक से पूछ सकेंगे। ‘कैजाला’ के जारी करने के दौरान केवीएस के आयुक्त संतोष कुमार मल्ल भी मौजूद रहे।

केवीएस के अतिरिक्त निदेशक (अकादमिक) यूएन खवाड़े ने बताया कि महात्मा बुद्ध के अंतिम वाक्यों में से एक ‘अप्पा दीपो भव’ है जिसका अर्थ होता है, अपना प्रकाश खुद बनो। इसी से प्रेरणा लेकर इस योजना का नाम ‘अप्प दीप’ रखा गया है। उन्होंने बताया कि इस योजना को शुरुआत में देश के सिर्फ 25 केंद्रीय विद्यालयों में लागू किया जाएगा। योजना की औपचारिक शुरुआत शिक्षक दिवस पर होने की संभावना है। खवाड़े ने बताया कि वाट्सऐप में एक सीमा के बाद लोगों को किसी समूह में नहीं जोड़ा जा सकता है लेकिन माइक्रोसॉफ्ट के ‘कैजाला’ में किसी भी समूह में कितने भी लोगों को जोड़ा जा सकता है।

उन्होंने बताया कि हम शुरुआत में इस ऐप के माध्यम से कुछ विषयवार समूह बनाना चाहते हैं जिनके माध्यम से विद्यार्थी न सिर्फ एक दूसरे से बल्कि अपने विषय के शिक्षकों से भी संपर्क में रहेंगे। इसके अलावा केवीएस कैजाला का उपयोग अपने कर्मचारियों, किसी क्षेत्र में स्थित सभी विद्यालयों के प्रधानाचार्यों आदि से संपर्क सूत्र के रूप में करेगा। 25 विद्यालयों के कक्षा आठ के करीब 5,000 विद्यार्थियों को इस साल टैबलेट दिए जाएंगे। इसके अलावा इन स्कूलों के 200 शिक्षकों को भी टैबलेट उपलब्ध कराया जाएगा। टैबलेट योजना पर शुरुआती में करीब 9 करोड़ रुपए के खर्च की संभावना है। इन 25 विद्यालयों में इस योजना की सफलता के बाद इस योजना को भविष्य में सभी करीब 1,200 विद्यालयों में लागू किया जाएगा।

गेम से बढ़ाएंगे बच्चों की कल्पना शक्ति

इन टैबलेट में मिनेक्राफ्ट और कूडो जैसे गेम होंगे। जिनसे बच्चों को अपनी कल्पना शक्ति का इस्तेमाल करने का मौका मिलेगा। इससे उनकी कल्पना और सोचने की क्षमता का विकास होगा। इसके अलावा बच्चों में समस्या को हल करने में अधिक विज्ञान और गणित का इस्तेमाल करने की क्षमता का भी विकास होगा। इसके अलावा कक्षा 11 और 12 के बच्चों के लिए स्कूल स्तर पर हैकाथॉन आयोजित किया जाएगा। इसमें बच्चे अथिकल हैकिंग के गुर सीख सकेंगे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 विधायकों के खिलाफ दर्ज कराए जा रहे हैं झूठे मुकदमे: आम आदमी पार्टी
2 बिजली कंपनियों का 41,419 करोड़ रुपए का कर्जा चुकाएंगे दिल्लीवाले
3 जेएनयू का हर छात्र ले राष्‍ट्रवाद की रक्षा की शपथ, बीजेपी सांसद ने लोकसभा में उठाई मांग