ताज़ा खबर
 

दिल्ली से आईएस के दो आतंकी गिरफ्तार, लालकिले के पास धर दबोचे गए

आतंकवादी समूह आईएस की जम्मू एवं कश्मीर में उपस्थिति से राज्य पुलिस इनकार करती रही है। कश्मीर घाटी में हालांकि युवाओं द्वारा अक्सर आईएस द्वारा उपयोग किए जाने वाले काले झंडे को लहराते देखा जाता है।

Author September 7, 2018 7:11 PM
पुलिस उपायुक्त, विशेष सेल, पीएस कुशवाह ने बताया कि संदिग्धों को गुरुवार (8 सितंबर, 2018) रात लाल किला क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया। कुशवाह ने कहा कि गिरफ्तार लोगों पर वैश्विक आतंकवादी नेटवर्क की जम्मू एवं कश्मीर इकाई से जुड़े होने का संदेह है। (ani photo)

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जम्मू एवं कश्मीर के रहने वाले दो संदिग्ध इस्लामिक स्टेट इन जम्मू कश्मीर (आईएसजेके) से जुड़े आतंकवादियों को दिल्ली में गुरुवार को गिरफ्तार किया गया। पुलिस उपायुक्त, विशेष सेल, पीएस कुशवाह ने बताया कि संदिग्धों को गुरुवार (8 सितंबर, 2018) रात लाल किला क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है। इनकी पहचान कश्मीर के सोपियां से परवेज (24) और जमशीद (19) के रूप में की गई है। दोनों जम्मू कश्मीर वापस लौटने के लिए बस पकड़ने वाले थे तब दोनों को गुरूवार रात 10.45 बजे पकड़ा गया। कुशवाह ने कहा कि गिरफ्तार लोगों पर वैश्विक आतंकवादी नेटवर्क की जम्मू एवं कश्मीर इकाई से जुड़े होने का संदेह है। अधिकारी ने बताया कि दोनों दिल्ली को अस्थायी शिविर के तौर पर उपयोग करते थे। उन्होंने बताया कि परवेज का भाई भी आतंकवादी था जो इस साल 26 जनवरी को सोपियां में मुठभेड़ में मारा गया था।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41677 MRP ₹ 50810 -18%
    ₹0 Cashback
  • Lenovo K8 Plus 32GB Venom Black
    ₹ 9597 MRP ₹ 10999 -13%
    ₹1440 Cashback

परवेज वर्तमान में उत्तर प्रदेश के गजरौला से एमटेक कर रहा है और वह अपने भाई से प्रभावित हुआ। अधिकारी ने बताया कि जमशीद डिप्लोमा के अंतिम वर्ष का छात्र है। उसने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा गिरफ्तार किए गये मोहम्मद अब्दुल्ला बाशित के आंदोलन में सहयोग किया था। वह दूसरी दफा दिल्ली आया था। इससे पहले मई में उत्तर प्रदेश के अमरोहा से दिल्ली होते हुए कश्मीर गया था। उन्होंने बताया कि दोनों के पास से दो .32 की पिस्तौल और चार मोबाइल फोन बरामद किये गये। वे उमर इब्न नाजिर और आदिल थोकर के निर्देश पर काम करते थे। अधिकारी ने बताया कि उनकी राष्ट्रीय राजधानी में आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने की कोई योजना नहीं थी और वे दिल्ली को केवल अर्स्थाइ तौर पर रूकने के लिए इस्तेमाल करते थे। उन्होंने बताया कि इस वक्त आईएसजेके संगठन शुरूआती चरण में है।

बता दें कि आतंकवादी समूह आईएस की जम्मू एवं कश्मीर में उपस्थिति से राज्य पुलिस इनकार करती रही है। कश्मीर घाटी में हालांकि युवाओं द्वारा अक्सर आईएस द्वारा उपयोग किए जाने वाले काले झंडे को लहराते देखा जाता है। न्यूज एजेंसी एएनआई की खबर दोनों को पांच दिन के लिए दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल इकाई के रिमांड पर भेजा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App