ताज़ा खबर
 

दिल्ली मेट्रो में अब आपका स्मार्टफोन बनेगा टोकन, लंबी कतारों से मिलेगा छुटकारा

दिल्ली मेट्रो में अब आप अपने स्मार्टफोन को टोकन और स्मार्ट कार्ड की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं।

delhi metro, smart card, token, passengers, mobile walletमेट्रो स्टेशन पर बैलेंस चेक करती युवती

दिल्ली मेट्रो में अब आप अपने स्मार्टफोन को टोकन और स्मार्ट कार्ड की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे अब आपको मेट्रो में यात्रा करने से पहले टोकन लेने के लिए लंबी कतारों में नहीं लगना होगा और न ही आपको कस्टमर केयर पर स्मार्ट कार्ड रिचार्ज कराने के लिए लाइनों में लगना होगा। डीएमआरसी के एक अधिकारी के मुताबिक, दिल्ली मेट्रो में यह सुविधा बहुत ही जल्द शुरु हो सकती है। अधिकारी ने बताया कि डीएमआरसी यह सुविधा अपने मौजूद एप जरिए देगी। अधिकारी ने बताया कि यात्री को अपने स्मार्टफोन में इंस्टाल डीएमआरसी के एप पर जाकर माई जर्नी के ऑप्शन में जाना होगा। फिर उसमें जानकारी देनी होगी कि यात्रा कहां से कहां तक करनी है। इसके बाद मोबाइल वॉलेट के जरिए किराया कट जाएगा और ऑटोमैटिक एक क्यूआर कोड जनरेट हो जाएगा। यात्री एप में जारी हुए क्यूआर कोड को एक्सेस गेट पर दिखाकर सफर कर सकेंगे।

डीएमआरसी अधिकारी की माने तो स्मार्टफोन टिकटिंग को शुरुआत में कुछ स्टेशनों से प्रायोगिक तौर पर शुरू किया जाएगा। सभी स्टेशनों पर यह सुविधा मार्च में होली के आसपास शुरू होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि स्मार्ट टिकटिंग के लिए मेट्रो अपने मौजूदा एप में ही थोड़ा सुधार करेगी। अधिकारी ने बताया कि मार्च 2013 में शुरू हुए मेट्रो एप में अन्य सुविधाएं पहले की तरह ही काम करती रहेंगी। उन्होंने बताया कि मेट्रो मोबाइल आधारित स्मार्टफोन टिकटिंग के लिए ऑटोमेटिक फेयर कलेक्शन (एएफसी) और दूसरे सॉफ्टवेयर में बदलाव करेगी। गौरतलब है कि फ्रांस के मेट्रो नेटवर्क में यह सुविधा काफी समय से है। वहीं कोलकाता मेट्रो भी इस सुविधा को जल्द ही अपनाने की तैयारी में है।

आपको बता दें कि स्मार्टफोन टिकटिंग का कॉन्सेप्ट सुझाने वाले आईआईटी रुड़की के पूर्व छात्र विराज वर्मा ने बताया कि स्मार्ट टिकटिंग स्टेप एप की एक ही स्क्रीन में आएगा। वर्मा के अनुसार स्मार्टफोन टिकटिंग सेवा का इस्तेमाल ‘बुक माइ शो’ एप की तरह होगा।

ऐसे काम करेगा हाईटेक टोकन
एप पर माई जर्नी मेन्यू में जाकर जानकारी देनी होगी कि कहां की यात्रा करनी है।
मोबाइल वॉलेट जैसे इस एप पर दूरी के अनुसार किराया कट जाएगा और स्क्रीन पर क्यूआर कोड दिखेगा।
कोड को मेट्रो स्टेशन के गेट पर लगी मशीन में स्कैनर करके सामान्य टोकन की तरह यात्रा की जा सकेगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अरविंद केजरीवाल की शुगर बढ़ी, इलाज कराने बेंगलुरू जाएंगे
2 अरविंद केजरीवाल का पीएम मोदी पर हमला- चरखे के साथ फ़ोटो लेने से कोई महात्मा गांधी नहीं होता
3 दिल्ली में ट्रैफिक जाम से लगता है सालाना 600 अरब रुपए का चूना
यह पढ़ा क्या?
X