ताज़ा खबर
 

दिल्ली विधानसभा में आप विधायक अलका लांबा की फिसली जुबान, अखिलेश यादव को कह दिया यूपी का मुख्यमंत्री

अलका लांबा ने आरोप लगाया कि दिल्ली नगर निगम चुनावों में तुगलकाबाद वार्ड में तीन ईवीएम मशीनों के सील टुटे हुए पाए गए थे।

आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा। (फाइल फोटो)

ईवीएम में कथित छेड़छाड़ पर चर्चा के लिए आज (9 मई को) दिल्ली विधान सभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाया गया है। चर्चा की शुरुआत करते हुए आप की विधायक अलका लांबा ने कहा कि अगर ईवीएम पर शक है तो उसकी जांच होनी चाहिए। इस बीच उन्होंने समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव का भी नाम लिया लेकिन उनकी जुबान फिसल गई। उन्होंने अखिलेश यादव को यूपी का मुख्यमंत्री कह डाला। अलका ने कहा कि आज पूरा देश दिल्ली विधान सभा की ओर टकटकी लगाए देख रहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली नगर निगम चुनावों से पहले ईवीएम छेड़छाड़ की आशंका पर हमलोग दिल्ली चुनाव आयोग के कार्यालय पहुंचे थे लेकिन वहां कोई भी हमारी बात सुनने को तैयार नहीं हुआ।

अलका लांबा ने आरोप लगाया कि दिल्ली नगर निगम चुनावों में तुगलकाबाद वार्ड में तीन ईवीएम मशीनों के सील टुटे हुए पाए गए थे। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में ईवीएम टेम्परिंग पर याचिका दाखिल करने वाले वीवी राव को धन्यवाद दिया और कहा कि उनकी लड़ाई मुकाम तक पहुंचेगी। उन्होंने कहा कि आप हमें सिर्फ एक ईवीएम दें। हम आपको बताएंगे कि उसमें छेड़छाड़ हो सकती है या नहीं। अलका ने कहा कि उनके साइंटिस्ट ऐसा करके दिखा सकते हैं। अलका ने यह भी आरोप लगाया कि नए ईवीएम होने के बावजूद आयोग ने दिल्ली नगर निगम चुनाव में पुरानी ईवीएम से चुनाव क्यों कराए और इसके लिए राजस्थान से पुराने ईवीएम क्यों मंगवाए?

अलका ने कहा कि यह जगजाहिर हो चुका है कि ईवीएम में छेड़छाड़ की जा सकती है। उन्होंने कहा कि जब अखिलेश यादव जी ने पेट्रोल वेंटिंग मशीन में चिप लगाने के खिलाफ आवाज उठाई है। जब यह संभव है तो ईवीएम में छेड़छाड़ क्यों नहीं हो सकती है। उन्होंने कहा कि इसी आशंका को देखते हुए उत्तराखंड हाईकोर्ट ने 2440 ईवीएम को सील करने का आदेश दिया है। अलका ने यह भी कहा कि साल 2015 के विधानसभा चुनाव तक किसी ने भी ईवीएम में छेड़छाड़ की बात नहीं की लेकिन अब यह मुद्दा उठा है क्योंकि अब ऐसा संभव बनाया गया है।

सत्र शुरू होने से पहले ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि उनके विधायक सौरभ भारद्वाज एक बड़ी साजिश का खुलासा करेंगे। हालांकि सदन की कार्यवाही शुरू होते ही भाजपा के विधायक रिश्वत और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर हंगामा करने लगे। इस बीच विधान सभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने नेता विपक्ष विजेंद्र गोयल को दिनभर के लिए सदन का कार्यवाही से सस्पेंड कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App