ताज़ा खबर
 

दिल्ली के एक रेलवे स्टेशन पर सिख युवक ने खुद में लगाई आग, लोग तमाशबीन बन वीडियो बनाते रहे

शर्मनाक स्थिति तब बन गई जब स्टेशन पर मौजूद यात्री या जीआरपी के जवान आग बुझाने के लिए सामने नहीं आए।

Author नई दिल्ली | December 4, 2017 12:38 PM
सिख युवक रेलवे ट्रैक के आसपास एक घंटे से ज्यादा वक्त से घूम रहा था। उसकी पहचान नहीं हो सकी है। (सांकेतिक फोटो)

देश की राजधानी के एक रेलवे स्टेशन पर दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। शनिवार को एक युवक ने नई दिल्ली स्थित शकूर बस्ती रेलवे स्टेशन पर आग लगाकर आत्मदाह कर लिया। शर्मनाक स्थिति तब बन गई जब स्टेशन पर मौजूद यात्री या जीआरपी के जवान आग बुझाने के लिए सामने नहीं आए। इसके बजाय लोग घटना का वीडियो बनाने लगे। वह दस मिनट तक आग में तड़पता रहा और आखिरकार प्राण त्याग दिए। शुरुआत में शव को हटाने के लिए जीआरपी और दिल्ली पुलिस के बीच अधिकार क्षेत्र को लेकर टकराव की स्थिति बनी रही। इसके कारण तकरीबन तीन घंटे बाद शव को घटनास्थल से हटाया जा सका। मृतक की पहचान नहीं हो सकी है।

जानकारी के मुताबिक हृदय विदारक घटना शनिवार शाम तकरीबन छह बजे की है। युवक कथित तौर पर शकूर बस्ती रेलवे स्टेशन के ट्रैक के आसपास एक घंटे से ज्यादा वक्त से घूम रहा था। लोग बताते हैं कि वह अवसाद की स्थिति में लग रहा था। सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशन पर तैनात जीआरपी के एक अधिकारी ने बताया कि वहां मौजूद लोगों का ध्यान उस वक्त युवक पर गया जब उसने अपने बैग से एक बोतल निकालकर खुद के ऊपर केरोसिन तेल उड़ेल लिया। कुछ सेकेंड बाद ही उसने माचिस निकाल कर आग भी लगा ली। स्टेशन पर मौजूद यात्रियों ने जीआरपी को इसकी सूचना दी। इस बीच, युवक पूरी तरह आग में घिर चुका था। वह मदद के लिए चिल्ला रहा था, लेकिन किसी भी व्यक्ति ने आग बुझाने की कोशिश नहीं की।

HOT DEALS
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14845 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹1485 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 13989 MRP ₹ 16999 -18%
    ₹2000 Cashback

इससे भी ज्यादा शर्मनाक स्थिति तब पैदा हुई जब जीआरपी और दिल्ली पुलिस के बीच अधिकार क्षेत्र को लेकर बहस हो गई। इसके कारण शव तकरीबन तीन घंटे तक यूं ही रेलवे स्टेशन पर रहा। उत्तर-पश्चिम दिल्ली के डीसीपी असलम खान ने बताया कि घटना रेलवे ट्रैक पर हुई थी, ऐसे में यह मामला जीआरपी के अधीन का था। डीसीपी, रेलवे परवेज अहमद ने आलम की दलीलों को खारिज किया। उन्होंने कहा कि शव रेलवे ट्रैक पर नहीं पाया गया था। आखिरकार शव को अस्पताल के शवगृह में रखवाया गया। मृतक की पहचान नहीं होने के कारण शव का पोस्टमार्टम नहीं किया जा सका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App