ताज़ा खबर
 

मां चल बसी तो बाप ननिहाल में छोड़ आया, नाना ने रेप किया और अनाथालय के बाहर छोड़ दिया

पुलिस ने बताया कि आरोपी (60) मूल रूप से राजस्थान का रहने वाला है और कई सालों से नांगलोई के राजधानी पार्क में रहता है।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां सात साल की मासूम बच्ची को उसके ही सगे नाना ने हवस का शिकार बनाया। बलात्कार से मन भर गया तो आरोपी उसे रोहिणी स्थित अनाथालय छोड़ आया। जानकारी के मुताबिक बच्ची की मां की मौत हो गई तो पिता उसे मामा-मामी का यहां छोड़कर चला गया। बच्ची की मुसीबत यहां भी खत्म नहीं हुई। मामा-मामी की आंखों में भी वो खटकने लगी और उन्होंने उसे नाना के हवाले कर दिया। जहां नाना ने मासूम संग कई बार घिनौना अपराध किया। बच्ची की जानकारी पर पुलिस ने आरोपी को नाना को 14 अगस्त को गिरफ्तार कर लिया है।

मामले में पुलिस ने बताया कि आरोपी (60) मूल रूप से राजस्थान का रहने वाला है और कई सालों से नांगलोई के राजधानी पार्क में रहता है। आरोपी पेशे से राजमिस्त्री है और इलाके में अपने ही मकान में रहता है। बच्ची पहले अपने माता-पिता के साथ रोहिणी इलाके में रहती थी। मगर पिता के उत्पीड़न से तंग आकर मां ने दो साल पहले आत्महत्या कर ली। एक साल पहले पिता भी बच्ची को उसके मामा-मामी के हवाले करके चला गया। बाद में मामी को बच्ची बोझ लगने लगी। पति-पत्नी में आए दिन विवाद होने लगा। इससे मामा-मामी बच्ची को नाना के घर अकेला छोड़ कर नजफगढ़ में रहने चले गए।

HOT DEALS
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14845 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹0 Cashback
  • ARYA Z4 SSP5, 8 GB (Gold)
    ₹ 3799 MRP ₹ 5699 -33%
    ₹380 Cashback

पुलिस ने आगे बताया कि जब बच्ची नाना के यहां अकेली रहने लगी तो उसने एक रात गलत काम किया। उसके बाद तो लगातार यही सिलसिला चलता रहा। बाद में नाना को लगा बच्ची बड़ी होकर उसके सच्चाई बता देगी। इससे घबराकर वह उसे रोहिणी अनाथालय के गेट पर यह कहकर छोड़ आया कि उसका कोई नहीं है।

यहां अनाथालय के स्टाफ को धीरे-धीरे बातचीत में बच्ची ने सारी सच्चाई बता दी। बाद में मामले की जानकारी तुरंत पुलिस को दी गई। इसके पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी नाना को गिरफ्तार कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App