ताज़ा खबर
 

आंबेडकर विवि के कर्मपुरा परिसर में बढ़ेंगी 200 सीटें

एयूडी के कर्मपुरा परिसर में चलने वाले स्नातक पाठ्यक्रमों को छोड़कर विश्वविद्यालय के बाकी परिसरों में मौजूद स्नातकोत्तर और स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया जारी है।

Author नई दिल्ली, 13 जून। | June 14, 2018 5:55 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर

आंबेडकर विश्वविद्यालय, दिल्ली (एयूडी) अपने कर्मपुरा परिसर में इस साल स्नातक स्तर पर चार नए पाठ्यक्रम शुरू करने जा रहा है। इनमें बीए वैश्विक अध्ययन, बीए विधि एवं राजनीतिक अध्ययन और बीए सतत शहरीकरण विश्वविद्यालय में पहली बार शुरू किए जा रहे हैं। जबकि चौथा पाठ्यक्रम बीए सामाजिक विज्ञान एवं मानविकी पहले से ही कश्मीरी गेट परिसर में चलाया जा रहा है। चारों पाठ्यक्रमों में 50-50 सीटें निर्धारित की गई हैं, जिससे कर्मपुरा परिसर में कुल 200 सीटों का इजाफा होगा। विश्वविद्यालय के एक अधिकारी के मुताबिक द स्कूल ऑफ लॉ एंड ग्लोबल सिटिजनशिप के तहत बीए विधि एवं राजनीतिक अध्ययन की शुरुआत की गई है। इन चारों पाठ्यक्रमों में बारहवीं कक्षा में आए अंकों के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा। कर्मपुरा परिसर के चल रहे पाठ्यक्रमों के लिए जल्द ही दाखिला प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

एयूडी के कर्मपुरा परिसर में चलने वाले स्नातक पाठ्यक्रमों को छोड़कर विश्वविद्यालय के बाकी परिसरों में मौजूद स्नातकोत्तर और स्नातक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए पंजीकरण की प्रक्रिया जारी है। आॅनलाइन पंजीकरण कराने की अंतिम तिथि 23 जून है। स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में पंजीकरण शुल्क के रूप में सामान्य और ओबीसी वर्ग उम्मीदवारों को 480 रुपए का मांग पत्र, नकद या आॅनलाइन भुगतान के जरिए देना होगा। प्रवेश परीक्षा के लिए योग्य छात्रों की सूची 28 जून को जारी की जाएगी। इसके बाद 1 से 9 जुलाई तक प्रवेश परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी। प्रवेश परीक्षा परिणाम के आधार पर 2 से 14 जुलाई तक इन पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए साक्षात्कार आयोजित किए जाएंगे। 13 स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में नौ कश्मीरी गेट परिसर में, दो पाठ्यक्रम कर्मपुरा परिसर में और दो लोधी कॉलोनी परिसर में संचालित किए जाएंगे।

दो पीएचडी पाठ्यक्रम भी होंगे शुरू

विश्वविद्यालय के कश्मीरी गेट परिसर में पीएचडी के दो नए पाठ्यक्रम भी इस साल शुरू होने जा रहे हैं। इनमें पीएचडी प्रबंधन और पीएचडी अर्थशास्त्र शामिल हैं। जल्द ही पुराने पीएचडी पाठ्यक्रमों के साथ इन नए पाठ्यक्रमों में भी दाखिले शुरू किए जाएंगे। विश्वविद्यालय में वैश्विक अध्ययन का स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम भी इसी साल शुरू किया गया है। पाठ्यक्रम वैश्विक चर्चाओं को समझने के लिए धन और गरीबी, राज्य और लोकतंत्र, वैश्विक पर्यावरण और समाज व संस्कृतियां और पहचान जैसे प्रसंगों पर आधारित होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App