ताज़ा खबर
 

दि‍ल्‍ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चुनाव में आप समर्थक गुट को नहीं मिली एक भी सीट

आम आदमी पार्टी द्वारा समर्थित 'पंथक सेवा दल' चुनाव में कोई प्रभाव छोड़ने में नाकाम रही।

dsgmc elections 2017 results: शि‍रोमणि‍ अकाली दल की जीत।

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के लिए चुनाव के नतीजे बुधवार (1 मार्च) को सामने आ गए। शिरोमणि अकाली (बादल ) गुट ने 46 वार्डों के लिए हुए चुनाव में 35 सीटें जीती हैं। कांग्रेस समर्थित शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) का प्रदर्शन फिर से खराब रहा। इस गुट को केवल 7 सीटें मि‍लीं। आम आदमी पार्टी समर्थक गुट ‘पंथक सेवा दल’ चुनाव में कोई प्रभाव छोड़ने में नाकाम रही। इस दल के संयोजक आम आदमी पार्टी के कालकाजी के विधायक अवतार सिंह कालकाजी हैं। पंथक सेवा दल एक भी सीट नहीं जीत पाई। वैसे आप का कहना है कि‍ उसका इस चुनाव और पंथक सेवा दल से कोई लेना-देना नहीं है।

गुरुद्वारा प्रबंधक समिति का चुनाव  हर चार साल में होता है। पि‍छली बार साल 2012 में अकाली दल (बादल) ने 35 सीटें जीती थीं जबकि कांग्रेस समर्थित अकाली दल (दिल्ली) ने 7 सीटें जीती थीं। इसी के साथ 2 सीटें निर्दलीय उम्मीदवार जीतने में सफल रहे थे तो अकाल सहाई वेलफेयर सोसाइटी ने भी दो सीटें अपनी खाते में डाली। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति सिख समाज की दूसरी सबसे बड़ी धार्मिक संस्था है। दिल्ली के सभी गुरुद्वारे, सिख समाज द्वारा चलाए जाने वाले सभी स्कूल, कॉलेज और अस्पताल के प्रबंधन और कामकाज का काम इसी समिति द्वारा चलाया जाता है।

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के चुनाव के लिए 26 फरवरी को वोटिंग हुई थी। गुरुद्वारा प्रबंधन समिति के लिए 46 वार्डों पर हुए चुनाव के लिए 560 पोलिंग बूथ बनाए गए थे। इसमें 111 संवेदनशील एवं 57 अति संवेदनशील पोलिंग बूथ थे। चुनाव में कुल 334 प्रत्याशी मैदान में थे।  इन चुनावों में कुल वोटर करीब 3 लाख 80 हजार थे जिसमें से 45% मतदाता ने ही वोट डाला।

पंथक सेवा दल ने पहली बार इस चुनाव में भाग लि‍या था। इस दल का आम आदमी पार्टी व‍िधायक  से  जुड़ाव होने के चलते उसकी हार को आम आदमी पार्टी को झटका के रूप में देखा जा रहा है। माना जा रहा है सिख मतदाताओं ने गुरुद्वारा राजनीति में आम आदमी पार्टी को नकार दिया है।   इसके साथ ही दिल्ली के सिख मतदाताओं के अकाली दल के साथ जुड़े रहने से पंजाब के चुनाव पर भी नतीजों को लेकर कयास तेज हो गए हैं। हालांकि दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमेटी का स्केल बहुत छोटा है।

वैसे, आम आदमी पार्टी ने 15 फरवरी को बयान जारी कर साफ कर द‍िया था क‍ि उसका इसं चुनाव से कोई लेना-देना नहीं है। बयान के मुताब‍िक आम आदमी पार्टी की राय है क‍ि गुरुद्वारा प्रबंधन सम‍ित‍ि के चुनाव में क‍िसी राजनीतिक दल का दखल नहीं होना चाह‍िए। इससे पहले दिल्ली विश्वविद्यालय चुनाव में भी आम आदमी पार्टी की स्टूडेंट विंग को हार का सामना करना पड़ा था। उसके बाद पार्टी ने छात्र राजनीति से हाथ खीच लिए थे।

BLOG: DSGMC चुनाव से सामने आया AAP का दोहरापन? MLA ने लड़ाए 39 उम्मीदवार, सबको मिली हार

DSGMC election, AAP, Aam Admi Party दि‍ल्‍ली गुरुद्वारा प्रबंधक समि‍ति‍ चुनाव को लेकर 15 फरवरी को आम आदमी पार्टी द्वारा मीडि‍या को जारी कि‍या गया बयान।

 

 

बीजेपी नेता शाजिया इल्मी का आरोप- "जामिया के सेमिनार में ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर बोलने नहीं दिया गया"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App