ताज़ा खबर
 

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिले मोहन भागवत

केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के मार्गदर्शक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने यहां शुक्रवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की।

केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के मार्गदर्शक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने यहां शुक्रवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात की। संघ ने इसे एक सद्भावना मुलाकात बताया है। संघ ने कहा कि मुखर्जी ने भागवत को दोपहर के भोजन पर आमंत्रित किया था, और वह रुद्रपुर से यहां पहुंचे। 17 जुलाई के राष्ट्रपति चुनाव से पूर्व हुई इस मुलाकात ने राजनीतिक गलियारों में कयासों को जन्म दे दिया है, लेकिन आरएसएस ने इन कयासों को खारिज कर दिया। उल्लेखनीय है कि शिवसेना ने भागवत का नाम राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के राष्ट्रपति उम्मीदवार के रूप में सुझाया है, लेकिन आरएसएस प्रमुख ने इस दौड़ से खुद को बाहर कर लिया है।

गौरतलब है कि मोहन भागवत का नाम भी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की दौड़ में बताया जा रहा था। हालांकि खुद भागवत ने ही इन अटकलों पर रोक लगाते हुए कहा था कि उन्हें राष्ट्रपति पद में रुचि नहीं है। शिवसेना की ओर से लगातार मोहन भागवत को राष्ट्रपति पद का उपयुक्त उम्मीदवार कहा जाता रहा है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा था कि भारत को हिंदू राष्ट्र बनाना हमारा प्राथमिक उद्देश्य है और इसलिए मोहन भागवत को देश का अगला राष्ट्रपति होना चाहिए।

इसके अलावा कांग्रेस के मुस्लिम नेता सीके जाफर शरीफ ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर भारत के राष्ट्रपति के रूप में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत का समर्थन किया था और कहा था कि उनकी देशभक्ति और संविधान के प्रति उनकी प्रतिबद्धता पर कोई संदेह नहीं है। हालांकि खुद मोहन भागवत ने उन्हें राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने को लेकर चल रही अटकलों पर रोक लगा दी थी। उन्होंने कहा था कि वह राष्ट्रपति नहीं बनना चाहते और अगर ऐसा प्रस्ताव आता भी है तो उन्हें स्वीकार नहीं होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App