ताज़ा खबर
 

सील हो सकता है लालू यादव का दिल्ली वाला घर,मीसा के फार्महाउस पर भी ED लगा सकता है ताला

आयकर विभाग अब दिल्ली स्थित इस घर से जुड़े दस्तावेज खंगाल रहा है और जल्द ही इस पर कार्रवाई की जा सकती है।

राजद अध्यक्ष लालू यादव अपनी पत्नी राबड़ी देवी और बेटों तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव के साथ। (फाइल फोटो-PTI)

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव से जुड़ी आज दो बड़ी खबरें सामने आयी। पहली खबर के मुताबिक प्रवर्तन निदेशालय लालू यादव की बेटी और सांसद मीसा भारती और उनके दामाद शैलेश का दिल्ली के बिजवासन स्थित फार्म हाउस को सील कर सकती है। लेकिन दूसरी खबर लालू यादव के लिए नयी परेशानी खड़ी कर सकती है। और लालू यादव को नये सिरे से करप्शन के एक नये केस का सामना करना पड़ सकता है। ये दूसरी खबर जुड़ी है लालू यादव के बेटे बेटियों के नाम पर दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में स्थित बहुमंजिला इमारत की। न्यूज़ चैनल एबीपी न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक आयकर विभाग अब इस घर से जुड़े दस्तावेज खंगाल रहा है और जल्द ही इस पर कार्रवाई की जा सकती है। एबीपी न्यूज के मुताबिक इस चैनल के पास इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वो रिपोर्ट है, जिसके मुताबिक ये साफ होता है कि सिर्फ 5 हजार रुपये में लालू यादव की बेटी चंदा यादव दिल्ली के पॉश इलाके में  5 करोड़ रुपये की बिल्डिंग में हिस्सेदार बनी।

HOT DEALS
  • Panasonic Eluga A3 Pro 32 GB (Grey)
    ₹ 9799 MRP ₹ 12990 -25%
    ₹490 Cashback
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Warm Silver)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback

बता दें कि बिहार बीजेपी के नेता सुशील मोदी ने आरोप लगाया है कि लालू के परिवार ने 2007-08 में वित्तीय हेरफेर कर नई दिल्ली के डी-1088, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में 800 वर्ग मीटर जमीन मकान सहित पांच करोड़ रुपये में खरीदा। सुशील मोदी के मुताबिक आज इस जमीन की कीमत 55 करोड़ से ज्यादा है तथा इस जमीन पर लालू परिवार का चार मंजिला मकान बनकर लगभग तैयार है, जिसकी वर्तमान कीमत लगभग 60 करोड़ रुपये होगी। ये प्रॉपर्टी तेजस्वी यादव के साथ चंदा यादव के नाम पर रजिस्टर्ड है। एबीपी न्यूज के मुताबिक जिस कंपनी एबी एक्सपोर्ट ने ये घर खरीदा था उस कंपनी में कोई काम नहीं होता था. कंपनी में आने वाला पैसे दो नंबर का था। इस कंपनी को मुंबई की पांच फर्जी कंपनियों से 5 करोड़ रुपये का लोन मिला था। बता दें कि 2007-08 में जिस वक्त ये डील हुई उस वक्त लालू यादव केन्द्र में रेल मंत्री थे। लिहाजा वे नये सिरे से कानूनी जांच में फंस सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App