ताज़ा खबर
 

निजता का अधिकार: जज बेटे ने राइट टू प्राइवेसी पर अपने ही पिता के फैसले को पलटा

547 पन्नों में दिये गये इस फैसले से मौलिक अधिकारों की परिभाषा में एक नया आयाम जुड़ा है।

निजता के अधिकार पर जस्टिस डी वाई चन्द्रचूड ने अपने ही पिता के फैसले को पलट डाला (फाइल फोटो)

सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा कि निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है और यह जीवन एवं स्वतंत्रता के अधिकार का अभिन्न हिस्सा है। सर्वोच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे.एस. खेहर की अध्यक्षता वाली नौ सदस्यीय पीठ ने एक मत से यह फैसला दिया। 547 पन्नों में दिये गये इस फैसले से मौलिक अधिकारों की परिभाषा में एक नया आयाम जुड़ा है। सबसे खास बात ये है कि सुप्रीम कोर्ट की नौ जजों की बेंच के सदस्य डी वाई चन्द्रचूड ने निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार बताकर अपने पिता जस्टिस वाई वी चन्द्रचूड के एक अहम फैसले को पलट दिया है, जो उन्होंने 1975 में एडीएम जबलपुर वर्सेस शिवकांत शुक्ला के मामले में दिया था।

अपने पिता के फैसले के विपरित जाते हुए डीवाई चन्द्रचूड ने कहा कि उस दौरान चार जजों द्वारा बहुमत में दिये गये फैसले में कई खामियां थी। 24 अगस्त को जस्टिस वाई वी चन्द्रचूड ने अपने फैसले में लिखा, ‘जीवन और व्यक्तिगत आजादी मानव के अस्तित्व का अभिन्न हिस्सा है। जैसा कि केशवानन्द भारती मामले में कहा गया है ये अधिकार मनुष्य को आदिकाल से मिले हुएे हैं। ये अधिकार प्रकृति के कानून का हिस्सा हैं।’ उन्होंने कहा कि निजता के अधिकार की ये प्रतिष्ठा आजादी और स्वतंत्रता के साथ जुड़ी हुई है. और कोई भी सभ्य राज्य बिना कानून की इजाजत के जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर कुठाराघात नहीं कर सकता है। जस्टिस वाई वी चन्द्रचूड  ने आगे लिखा कि कोर्ट का बन्दी प्रत्यक्षीकरण जारी रिट जारी करने की शक्ति काननू की एक गजब की शक्ति है।

वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने गुरुवार को निजता के अधिकार को मौलिक अधिकार करार दिए जाने के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि यह केंद्र सरकार के लिए झटका है। भूषण ने शीर्ष अदालत का फैसला आने के बाद संवाददाताओं से कहा, “यह सरकार के लिए झटका है, क्योंकि यह निजता पर सरकार के रुख के खिलाफ है।”सर्वोच्च न्यायालय की नौ सदस्यीय पीठ ने सर्वसम्मति से दिए अपने फैसले में कहा कि निजता का अधिकार संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत प्रदत्त मौलिक अधिकार के अंतर्गत आता है।

 

Next Stories
1 दिल्ली: पसलियों में घुसे थे दो चाकू, घायल युवक पानी मांगता रहा मगर लोग वीडियो बनाते रहे, मौत
2 केजरीवाल-सिसोदिया पर 14 को तय होंगे आरोप: अदालत
3 दिल्ली: बवाना उपचुनाव में 45% मतदान
यह पढ़ा क्या?
X