ताज़ा खबर
 

राहुल-प्रियंका और कांग्रेस मुख्यालय का नया पता..

दरअसल सुप्रीम कोर्ट केआदेश के बाद केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने तमाम राजनीतिक दलों के कार्यालयों को नई दिल्ली के लुटियंस जोन से बाहर करने के आदेश दिए।

Author नई दिल्ली, 12 जुलाई। | July 13, 2018 6:55 AM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ चर्चा करते हुए।

अजय पांडेय

दोपहर बाद करीब सवा तीन बजे का वक्त होगा। दीनदयाल उपाध्याय मार्ग स्थित प्रदेश कांग्रेस के दफ्तर के बाहर काली एसयूवी गाड़ियों का काफिला आकर रुका और इनमें से छह-छह फुट के एसपीजी के जवान कूदे। कांग्रेस दफ्तर के बाहर खड़े लोगों से उन्होंने पूछा, क्या कांग्रेस का दफ्तर यही है, जी हां, यही है, उन्हें जवाब मिला। तब तक काफिले के बीच में थोड़ी दूरी पर एसयूवी में बैठे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी दिखाई पड़े और फिर पलक झपकते ही पूरा काफिला दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर तेजी से आगे बढ़ा। फिर आम आदमी पार्टी कार्यालय के पास से दाहिनी ओर मुड़कर आंखों से ओझल हो गया। दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी बहन प्रियंका गांधी और पारिवारिक मित्र सैम पित्रोदा के साथ गुरुवार को पहली बार कोटला मार्ग पर बन रहे कांग्रेस के नए मुख्यालय का निरीक्षण करने पहुंचे थे।

कोटला मार्ग की सर्विस रोड पर एसपीजी के जवान तैनात थे और गाड़ियों का काफिला खड़ा था। केवल राहुल गांधी की गाड़ी परिसर में अंदर खड़ी थी। मुख्य गेट के एक छोटा सा हिस्सा जो पहले खुला था, उसे भी बाद में बंद कर दिया गया। इस बीच में वहां काम कराने वाले इंजीनियरों और अन्य लोगों के शरीर में अचानक ही फुर्ती आ गई। दौड़भाग तेज हो गई। कोई नक्शा लेकर दौड़ रहा था तो कोई कुछ और लेकर। दिलचस्प बात यह थी कि वहां न तो प्रदेश कांग्रेस का कोई पदाधिकारी खड़ा था और न ही दिल्ली पुलिस का कोई जवान ही वहां नजर आ रहा था।

प्रदेश कांग्रेस के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के एक-दो पदाधिकारी पहुंचे भी थे, उन्हें भी जब यह अंदेशा हुआ कि पार्टी अध्यक्ष के इस गुपचुप दौरे में वे खलल साबित हुए तो उन्हें लेने के देने पड़ जाएंगे, तो वे भी खिसक लिए। लेकिन सामने और आसपास की झोपड़-पट्टियों में बैठे लोगों को यह पता लग गया कि राहुल गांधी आए हैं तो वे मुख्य द्वार के सामने थोड़ी दूरी पर खड़े हो गए। हालांकि एसपीजी वाले मुख्य द्वार के आसपास किसी को भी नहीं फटकने दे रहे थे। करीब आधे घंटे तक राहुल अंदर निर्माण कार्यों का जायजा लेते रहे। कांग्रेस के नए मुख्यालय का निरीक्षण करने के बाद जब राहुल की गाड़ी धीरे-धीरे गेट से बाहर निकलने लगी तो सबसे बार्इं ओर राहुल, बीच में उनकी बहन प्रियंका गांधी और दाहिनी ओर पारिवारिक मित्र सैम पित्रोदा दिखाई पड़े।

गाड़ी बाहर रुकी तो नहीं लेकिन राहुल ने अभिवादन कर रहे लोगों का जवाब अपनी मुस्कुराहट से दिया। पलक झपकते ही उनका काफिला निकल गया। उनके निकलते ही वहां जमा रिक्शा चालक, खोंमचे वाले, कार मैकेनिक आदि लोगों की हलचल तेज हो गई। राहुल प्रियंका को एक साथ देख लोग भाई-बहन के प्यार का बखान लेकर बैठ गए लेकिन पित्रोदा को नहीं पहचान पाने की कसक भी उनके हाव-भाव से समझ आ रही थी। खास बात यह रही कि राहुल की सुरक्षा में तैनात एसपीजी के जवान ने पूछने पर कहा कि अपने अंगरक्षकों के साथ भी कांग्रेस अध्यक्ष का बर्ताव बेहद दोस्ताना और प्यार भरा है। मौके पर मौजूद इंजीनियरों व मजदूरों ने बताया कि अब तक मोतीलाल वोरा (कांग्रेस के कोषाध्यक्ष) ही यहां आते रहे, राहुल और प्रियंका पहली बार आए हैं।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट केआदेश के बाद केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने तमाम राजनीतिक दलों के कार्यालयों को नई दिल्ली के लुटियंस जोन से बाहर करने के आदेश दिए। उसी के तहत भाजपा का नया मुख्यालय अशोक रोड से उठ कर अब दीनदयाल उपाध्याय मार्ग पर आ गया और अब कांग्रेस की नई पांच मंजिली इमारत भी इसी रोड पर बनकर लगभग तैयार हो गई है। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय के एक ओर दीनदयाल उपाध्याय मार्ग है और दूसरी तरफ कोटला रोड है। इसका मुख्य गेट कोटला रोड पर होगा। इसलिए इसका पता 9, कोटला रोड होगा। कांग्रेस की इस पांच मंजिली इमारत में बेसमेंट भी बनाया गया है। इसके इस साल के अंत तक बन कर तैयार हो जाने की संभावना है। इसके बन जाने से कांग्रेस का प्रदेश व मुख्य कार्यालय बिल्कुल आमने-सामने हो जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App