ताज़ा खबर
 

शशि थरूर ने की नरेंद्र मोदी की तारीफ़, बताया ‘कुशल वक्ता’

नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करने पर हाल में पार्टी की नाराजगी मोल लेने वाले कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा है कि प्रधानमंत्री में ‘‘हम सभी एक कुशल वक्ता देख रहे हैं’’ लेकिन साथ ही उन्होंने ‘‘खुलकर कट्टरपंथी हिन्दुत्व एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए’’ भाजपा पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि राजग सरकार, […]

Author Updated: February 1, 2015 6:15 PM
साथ ही थरूर ने ‘‘खुलकर कट्टरपंथी हिन्दुत्व एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए’’ भाजपा पर निशाना भी साधा।

नरेंद्र मोदी की प्रशंसा करने पर हाल में पार्टी की नाराजगी मोल लेने वाले कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा है कि प्रधानमंत्री में ‘‘हम सभी एक कुशल वक्ता देख रहे हैं’’ लेकिन साथ ही उन्होंने ‘‘खुलकर कट्टरपंथी हिन्दुत्व एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए’’ भाजपा पर निशाना भी साधा।

उन्होंने कहा कि राजग सरकार, खासकर मोदी की प्रमुख मजबूती संवाद रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री भाषण देने, नारे बनाने, बयान देने, अद्वितीय तरीके से फोटो अवसर देने में बहुत असरदार हैं।’’

थरूर ने कहा, ‘‘इसमें कोई सवाल नहीं है कि हम सभी एक कुशल वक्ता देख रहे हैं। और इसके अपने गुण हैं लेकिन यह पर्याप्त नहीं है।’’

थरूर ने हाल के समय में मोदी की कई मौके पर तारीफ की है जिसे लेकर कांग्रेस में नाराजगी है। पिछले वर्ष मोदी की प्रशंसा करने पर उन्हें पार्टी प्रवक्ता पद से हटाया गया था। हालांकि उन्होंने कहा कि मोदी ने जो वादे किये थे उनमें से ज्यादा पूरे नहीं हुए।

थरूर ने पीटीआई से कहा, ‘‘जिन लोगों ने मोदी को वोट दिया उन्होंने सोचा कि वह कदम उठाने वाले व्यक्ति को वोट दे रहे हैं। अब तक कदम उठाने वाले व्यक्ति की जगह, राष्ट्र को शब्दों वाला व्यक्ति मिला और असल सवाल यह है कि ये शब्द नतीजे में कब बदलेंगे।’’

थरूर ने कहा कि चेतना को जगाना अच्छा है और प्रधानमंत्री ने कुछ मुददों पर चेतना को झकझोरा है लेकिन क्रियान्वयन जरूरी है। मोदी सरकार में शब्दाडंबर और नतीजे के बीच अंतराल बहुत है। उन्होंने इन अफवाहों को भी खारिज किया कि वह भाजपा से नजदीकियां बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह कांग्रेसी ही रहेंगे।

थरूर ने कुछ भगवा नेताओं की हालिया टिप्पणियों पर कड़ी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा, ‘‘मोदी अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए जिस पार्टी और राजनीतिक मशीनरी पर सवार हैं वह पूरी तरह से संकुचित हैं। आरएसएस और कुछ भगवा नेताओं द्वारा प्रयुक्त की गई भाषा तोड़ने वाली है, जोड़ने वाली नहीं।’’

कांग्रेसी सांसद ने कहा कि आप ऐसा नहीं कर सकते कि ‘सबका साथ सबका विकास’ कहें और फिर मंत्री घृणित भाषा का प्रयोग करें। आप पार्टी में ऐसे नेता नहीं रख सकते जो (नाथूराम) गोडसे की प्रशंसा करें और इस बारे में बात करें कि महिलाओं को कितने बच्चे पैदा करने चाहिए।

थरूर ने कहा, ‘‘आपकी पार्टी खुलकर कट्टरपंथी हिन्दुत्व एजेंडे का प्रचार कर रही है।’’ उन्होंने विवादित बयानों को लेकर मंत्रियों पर कड़ा रुख नहीं अपनाने के लिए मोदी पर सवाल उठाए और कहा, ‘‘उन्हें चुप करने के बजाय, मोदी खुद इस मुददे पर चुप हैं।’’

थरूर ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री की चुपी इसे माफ करने के बराबर है और अगर आप इसे माफ करते हैं तो आप अपने ही घोषित उददेश्य को कमतर कर रहे हैं।’’

थरूर ने ‘इंडिया शास्त्र: रिफलेक्शंस आन द नेशन इन अवर टाइम’ नाम से हाल में एक पुस्तक लिखी है। उन्होंने कहा कि पिछले लोकसभा चुनावों में भाजपा को अगर इतनी सफलता नहीं मिली होती तो वे नई पुस्तक का प्रकाशन संभवत: देर से करते। इस पुस्तक के दो खंड मोदी पर आधारित हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories