ताज़ा खबर
 

जेएनयू स्कॉलर नजीब की मां हिरासत में, केस की सीबीआई जांच से कोर्ट नाखुश

फातिमा ने कहा कि मैं उस समय वहां मौजूद भी नहीं थी जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेना शुरु किया था।

Author नई दिल्ली | October 17, 2017 10:03 AM
जेएनयू के लापता छात्र नजीब अहमद की मां फातिमा नफीस। (फाइल फोटो)

दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय के छात्र नजीब अहमद की गुमशुदगी के मामले को एक साल हो गया लेकिन अभी तक उसका कोई सुराग नहीं लग पाया है। वहीं हाई कोर्ट भी सीबीआई जांच से खुश नहीं है। इस केस की जांच में तेजी की मांग कर रहे जेएनयू और जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों ने सामाजिक कार्यकर्यताओं के साथ मिलकर ‘चलो हाई कोर्ट’ कैंपेन शुरु किया। नजीब की मां फातिमा नफीस द्वारा उसे ढूंढने के लिए कोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी जिसकी सुनवाई के दौरान छात्र और कार्यकर्ता ने हाईकोर्ट के बाहर जमा होकर प्रदर्शन किया।

प्रदर्शनकारियों ने लापरवाही का इल्जाम लगाते हुए सीबीआई के खिलाफ नारेबाजी की और एकतरफा जांच का आरोप लगाया। कोर्ट के बाहर नफीस भी मौजूद थीं जिन्हें कई पुलिसवालों ने मिलकर कोर्ट के बाहर से उठाया और तिलक मार्ग पुलिस थाने ले गए। पुलिस का आरोप है कि प्रदर्शनकारी कोर्ट के बाहर इतना हंगामा कर रहे थे की उन्हें जबरन वहां से खदेड़ना पड़ा। अन्य प्रदर्शनकारियों को बारखंभा पुलिस थाने में हिरासत में रखा गया है। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार जेएनयू छात्रों को कहना है कि पुलिसवालों ने हमारे साथ बदतमीजी की। जेएमयूएसयू उपाध्यक्ष सिमोन जोया खान ने कहा कि हम दिल्ली हाईकोर्ट के बाहर थे कि पुलिस आई और हमारे साथ बदसलूकी करने लगी।

वहीं इस घटना पर बात करते हुए फातिमा नफीस ने कहा कि मैंने कोर्ट के बाहर कोई प्रदर्शन नहीं किया था क्योंकि मैं जानती हूं कि यह कानून के खिलाफ है, लेकिन फिर भी पुलिसवालों ने मेरा अपमान किया और मुझे उठाकर पुलिस थाने ले गए। इस घटना में मुझे हाथ में चोट भी आई है। फातिमा ने कहा कि मैं उस समय वहां मौजूद भी नहीं थी जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेना शुरु किया था। पुलिसवालों ने उन छात्रों पर हमला किया जो कि मेरी मदद करने के लिए आए थे। पुलिस ने हिरासत में लिए छात्रों को अभी तक बरी नहीं किया है। पुलिस कार्यवाही में एक छात्र को चोट आई है जिसे आरएमएल अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App