ताज़ा खबर
 

जेएनयू छात्रा का यौन शोषण कर, जान से मारने की धमकी दे रहा था सड़क-परिवहन मंत्रालय का बड़ा अफसर, हुआ गिरफ्तार

आरोपी अधिकारी पिछले पांच सालों से उसके साथ यौन शोषण कर रहा था।
Author नई दिल्ली | April 4, 2017 14:23 pm
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

दिल्ली पुलिस ने देश के सबसे चर्चित यूनिवर्सिटी जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी की एक छात्रा का काफी समय से यौन शोषण करने के आरोप में एक इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस (आईइएस) अधिकारी को गिरफ्तार किया है। पीड़ित छात्रा का कहना है कि आरोपी अधिकारी पिछले पांच सालों से उसके साथ यौन शोषण कर रहा था। पुलिस ने इस मामले की शिकायत दर्ज कर आरोपी अधिकारी को गिरफ्तार कर लिया है। एक पुलिस अधिकारी द्वारा दिए गए बयान के अनुसार आरोपी की पहचान राकेश मीणा के रूप में हुई है। अधिकारी ने बताया कि आरोपी सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय में सहायक कार्यकारी अभियंता के तौर पर काम करता है।

आरोपी राकेश मीणा पीड़िता का 2012 से यौन शोषण कर रहा था। वह पीड़िता का आए दिन पीछा करता था और उसे जान से मारने की धमकी भी दिया करता था। पुलिस ने सोमवार को आरोपी को उसके दक्षिण दिल्ली स्थित आवास से गिरफ्तार किया। इस मामले की शिकायत वसंत कुंज थाने में दर्ज कराई गई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। आरोपी को तिहाड़ जेल भेजा गया है और पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

यह पहला मामला नहीं है जहां पर जेएनयू छात्रा के साथ इस प्रकार का मामला सामने आया है। इससे पहले सोमवार को एक जेएनयू छात्रा का पीछा करने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया था। इस आरोपी की पहचान शैलेश कुमार के रूप में की गई। आरोपी पिछले 15 दिनों से छात्रा का पीछा कर रहा था। इसकी शिकायत छात्रा ने पुलिस थाने में दर्ज कराई जिसके बाद आरोपी को  पुलिस ने जेएनयू परिसर के अंदर बने महिला छात्रावास के बाहर से गिरफ्तार किया। इस मामले में पीड़िता का कहना है कि आरोपी ने पहले उससे दोस्ती करने और बात करने की बात कही थी लेकिन जब छात्रा ने मना कर दिया तो आरोपी उसका पीछा करने लगा।

देखिए वीडियो - लड़की का दावा- भाजपा की आलोचना की तो आया फोन, भारत से भगा देंगे, दिल्ली आ रहे हैं ढूंढ़कर मारेंगे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.