ताज़ा खबर
 

भारत का स्वर्ण काल है ये समय, बरसों बाद देश में आत्मविश्वास का ऐसा माहौल- नरेंद्र मोदी

संविधान दिवस: नरेंद्र मोदी के मुताबिक 68 वर्षों में संविधान ने एक अभिभावक की तरह हमें सही रास्ते पर चलना सिखाया है । संविधान ने देश को लोकतंत्र के रास्ते पर बनाए रखा, उसे भटकने से रोका है ।
Author November 27, 2017 09:09 am
PM मोदी ने कहा कि इसी सकारात्मक माहौल को आधार बनाकर हमें न्यू इंडिया के रास्ते पर आगे बढ़ते चलना है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले 68 वर्षो में हमारे संविधान ने हर परीक्षा को पार किया और हर आशंका को गलत साबित किया है लेकिन स्वतंत्रता के इतने वर्षो बाद भी आंतरिक कमजोरी दूर नहीं हुई है । ऐसे में अब बदले हुए हालात में कैसे आगे बढ़ा जाए, इस बारे में कार्यपालिका, न्यायपालिका और विधायिका तीनों ही स्तर पर मंथन किए जाने की जरूरत है। प्रधानमंत्री ने साथ ही कहा कि ये समय तो भारत के लिए स्वर्ण काल की तरह है। देश में आत्मविश्वास का ऐसा माहौल बरसों के बाद बना है । निश्चित तौर पर इसके पीछे सवा सौ करोड़ भारतीयों की इच्छाशक्ति काम कर रही है। इसी सकारात्मक माहौल को आधार बनाकर हमें न्यू इंडिया के रास्ते पर आगे बढ़ते चलना है। राष्ट्रीय विधि दिवस पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस देश में एक दर्जन से ज्यादा पंथ हों, सौ से ज्यादा भाषाएं हों, सत्रह सौ से ज्यादा बोलियां हों, शहर-गांव -कस्बों और जंगलों तक में लोग रहते हों, उनकी अपनी आस्थाएं हों, सबकी आस्थाओं का सम्मान करने के बाद ये ऐतिहासिक दस्तावेज तैयार करना आसान नहीं था।

उन्होंने कहा कि इस हॉल में बैठा हर व्यक्ति इस बात का गवाह है कि समय के साथ हमारे संविधान ने हर परीक्षा को पार किया है। हमारे संविधान ने उन लोगों की हर उस आशंका को गलत साबित किया है, जो कहते थे कि समय के साथ जो चुनौतियां देश के सामने आएंगी, उनका समाधान हमारा संविधान नहीं दे पाएगा। न्यू इंडिया के संकल्प पर जोर देते हुए मोदी ने कहा कि भारत आज दुनिया का सबसे नौजवान देश है। इस नौजवान ऊर्जा को दिशा देने के लिए देश की हर संवैधानिक संस्था को मिलकर काम करने की आवश्यकता है। 20वीं सदी में हम एक बार ये अवसर चूक चुके हैं। अब 21वीं सदी में न्यू इंडिया बनाने के लिए, हम सभी को संकल्प लेना होगा। उन्होंने कहा, ‘‘ स्वतंत्रता के इतने वर्षों बाद भी आंतरिक कमजोरियां दूर नहीं हुई हैं। इसलिए कार्यपालिका, न्यायपालिका और विधायिका तीनों ही स्तर पर मंथन किए जाने की जरूरत है कि अब बदले हुए हालात में कैसे आगे बढ़ा जाए। अपनी-अपनी कमजोरियां हम जानते हैं, अपनी-अपनी शक्तियों को भी पहचानते हैं ।’’

पीएम मोदी ने कहा कि ये सवाल सिर्फ न्यायपालिका या सरकार में बैठे लोगों के सामने नहीं, बल्कि देश के हर उस स्तंभ, हर उस स्तम्भ, हर उस संस्था के सामने है, जिस पर आज करोड़ों लोगों की उम्मीदें टिकी हुई हैं। इन संस्थाओं का एक एक फैसला, एक एक कदम लोगों के जीवन को प्रभावित करता है। मोदी ने कहा कि सवाल ये है कि क्या ये संस्थाएं देश के विकास के लिए, देश की आवश्यकताओं, देश के समक्ष चुनौतियों और देश के लोगों की आशाओं-आकांक्षाओं को समझते हुए, एक दूसरे का सहयोग कर रही हैं? एक दूसरे को समर्थन, एक दूसरे को मजबूत कर रही हैं? प्रधानमंत्री ने कहा कि पाँच साल बाद हम सब स्वतंत्रता के 75 वर्ष का पर्व मनाएंगे। हमें एकजुट होकर उस भारत का सपना पूरा करना है, जिस का सपना हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने देखा था। इसके लिए हर संस्था को अपनी ऊर्जा इस तरह से व्यवस्थित करनी होगी, उसे सिर्फ न्यू इंडिया का सपना पूरा करने में लगाना होगा ।

नरेंद्र मोदी के मुताबिक 68 वर्षों में संविधान ने एक अभिभावक की तरह हमें सही रास्ते पर चलना सिखाया है । संविधान ने देश को लोकतंत्र के रास्ते पर बनाए रखा, उसे भटकने से रोका है । इसी अभिभावक के परिवार के सदस्य के तौर पर हम उपस्थित हैं। सरकार, न्यायपालिका, नौकरशाही हम सभी इस परिवार के सदस्य ही तो हैं मोदी ने कहा कि संविधान दिवस हमारे लिए एक महत्वपूर्ण प्रश्न लेकर आया है। क्या एक परिवार के सदस्य के तौर पर हम उन मर्यादाओं का पालन कर रहे हैं, जिसकी उम्मीद हमारा अभिभावक, हमारा संविधान हमसे करता है? प्रधानमंत्री ने सवाल किया, ‘‘ क्या एक ही परिवार के सदस्य के तौर पर हम एक दूसरे को मजबूत करने के लिए, एक दूसरे का सहयोग करने के लिए काम कर रहे हैं?’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Nov 27, 2017 at 8:32 am
    बीजेपी हुकूमत को चाहिए कि हिन्दोस्तान में 2 वजीरेआजम नियुक्त करे ! (१) वजीरेआजम , चुनावी matters (२) वजीरेआजम, गैर-चुनावी matters ! मोदीजी को वजीरेआजम, चुनावी matters के ओहदे पर रखा जाना चाहिए , क्योंकि हिन्दोस्तान के मुख्तलिफ सूबों में मुख्तलिफ वक़्त पर चुनाव होते ही रहते हैं और मोदीजी रैली, आमसभा , चुनावी मीटिंग , चुनावी तक़रीर वगैरह में ही मसरूफ रहते हैं ! ऐसे हालत में , मुल्क को चलने के लिए और गरीबों के आंसू पोंछने के लिए , किसी दीगर आदमी को वजीरेआजम, गैर-चुनावी matters के ओहदे पर रखा जाना चाहिए ! बीजेपी , सरदार बल्लभ भाई पटेल को बहुत इज़्ज़त देती है , और इस बात का अफ़सोस जताती है कि सरदार बल्लभ भाई पटेल,हिन्दोस्तान के वजीरेआजम नहीं बन पाए ! इसलिए बीजेपी को आनंदी बेन पटेल जैसे किसी पटेल समुदाय के नेता को "वजीरेआजम, गैर-चुनावी matters " के ओहदे पर नियुक्त करना चाहिए !
    (1)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Nov 27, 2017 at 8:30 am
      बीजेपी हुकूमत को चाहिए कि हिन्दोस्तान में 2 वजीरेआजम नियुक्त करे ! (१) वजीरेआजम , चुनावी मा े (२) वजीरेआजम, गैर-चुनावी मा े ! मोदीजी को वजीरेआजम , चुनावी मा े के ओहदे पर रखा जाना चाहिए , क्योंकि हिन्दोस्तान के मुख्तलिफ सूबों में मुख्तलिफ वक़्त पर चुनाव होते ही रहते हैं और मोदीजी रैली, आमसभा , चुनावी मीटिंग , चुनावी तक़रीर वगैरह में ही मसरूफ रहते हैं ! ऐसे हालत में , मुल्क को चलने के लिए और गरीबों के आंसू पोंछने के लिए , किसी दीगर आदमी को वजीरेआजम, गैर-चुनावी मा े के ओहदे पर रखा जाना चाहिए ! बीजेपी , सरदार बल्लभ भाई पटेल को बहुत इज़्ज़त देती है , और इस बात का अफ़सोस जताती है कि सरदार बल्लभ भाई पटेल,हिन्दोस्तान के वजीरेआजम नहीं बन पाए ! इसलिए बीजेपी को आनंदी बेन पटेल जैसे किसी पटेल समुदाय के नेता को "वजीरेआजम, गैर-चुनावी मा े " के ओहदे पर नियुक्त करना चाहिए !
      (0)(0)
      Reply
      1. S
        sattyaprakash
        Nov 26, 2017 at 9:23 pm
        Gujrat chunav Modi verces Rahul Gandhi karne k prayas me BJP safal ho rahi hai agar Congress ne yah chunav Rupani verces Solanki,Modwadiya karne me safal ho gaye to samzo Congress ki jeet pakki hai.
        (0)(0)
        Reply
        1. S
          sattyaprakash
          Nov 26, 2017 at 9:17 pm
          BJP ko Satta ka ahankar ho gaya hai iss liye unhe apne siva kuch bhi dikhai nahi de raha hai.....Congress se garib janta ki ummid hai ki Gujrat chunav me Modi ko dhul chatavakar Rahul Gandhi iss Ravan ka garvaharan karenge.
          (1)(0)
          Reply
          1. S
            sattyaprakash
            Nov 26, 2017 at 9:09 pm
            Modi punjipatiyo ka sab se bada dalal hai....chatukaro k bhid me baithe sabhi savan k andho ko har jagah hara dikhata hai....
            (2)(0)
            Reply
            1. Load More Comments