ताज़ा खबर
 

आॅनलाइन ठगी मामला: आरोपियों को दोबारा रिमांड पर लेना चाहती है पुलिस, महिला को पीटने पर आप MLA का भाई गिरफ्तार

भूखंड दोनों आरोपियों ने निवेशकों से मिली रकम से खरीदा था, उसके बारे में भी पुलिस कुछ स्पष्ट नहीं कर पाई है।

Author नोएडा | February 28, 2017 3:19 AM
दिल्ली पुलिस के जवान।

सेक्टर-2 में सोशल साइटों के जरिए 260 करोड़ रुपए की ठगी करने के दोनों आरोपियों से पुलिस फिर पूछताछ कर सकती है। बताया जा रहा है कि वेब वर्क कंपनी के निदेशक अनुराग गर्ग और संदेश वर्मा से पूछताछ में कुछ खास हासिल नहीं हुआ है। लिहाजा पुलिस फिल्मी दुनिया और अंडरवर्ल्ड से कंपनी के तार जुड़े होने को लेकर दोबारा पूछताछ करना चाहती है, जिसके लिए पुलिस की तरफ से अदालत में फिर से रिमांड की याचिका दायर की जाएगी। आरोपियों से 4 दिनों की पूछताछ के बाद एक बार फिर सोमवार को बड़ी संख्या में निवेशक पहुंचे और रुपए वापस कराने की मांग को लेकर नारेबाजी की। खास बात यह है कि पूछताछ के बावजूद पुलिस आरोपी की आॅडी कार तक नहीं ढूंढ़ पाई है। उल्लेखनीय है कि 260 करोड़ रुपए की ठगी करने वाली वेब वर्क कंपनी के दोनों निदेशकों की 4 दिनों की रिमांड शनिवार को पूरी हो गई थी। पूछताछ में नोटबंदी के दौरान बैंकों में नकदी जमा कराने और बैंकों से निकासी पर रोक के अलावा पुलिस को कुछ खास हासिल नहीं हुआ। आयकर विभाग भी दोनों से धन शोधन (मनी लॉंड्रिंग) को लेकर पूछताछ करना चाह रहा है। मामले को लेकर अभी तक शिकायत करने वालों के करीब 90-95 लाख रुपए कंपनी पर बकाया बताए गए हैं।

साथ ही जो भूखंड दोनों आरोपियों ने निवेशकों से मिली रकम से खरीदा था, उसके बारे में भी पुलिस कुछ स्पष्ट नहीं कर पाई है। वह उन लोगों से भी पूछताछ करना चाह रही है, जिन्हें कंपनी में हिस्सेदार बनाने का दावा कर शामिल किया गया था। ऐसे लोगों की कितनी रकम लगी थी, इसका भी अभी तक पता नहीं चल सका है। सूत्रों का मानना है कि इतनी बड़ी रकम को केवल अपने ऊपर खर्च करना समझ से परे है।  माना जा रहा है कि निवेशकों की रकम का बड़ा हिस्सा कहीं और जाता था। वहां तक पहुंचने की कड़ी को जोड़ने के लिए पुलिस समेत अन्य जांच एजंसियां दोबारा पूछताछ को जरूरी मान रही हैं। जबकि सेक्टर-63 में अब्लेज कंपनी के फर्जीवाड़े में पुलिस को शुरुआत में ही 500 करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम बैंकों खातों में होने का पता चल गया था, जिसे जब्त कर लिया गया था। उसके बाद भी पूछताछ और छापेमारी के दौरान करीब 150 करोड़ रुपए तक के डीडी समेत अन्य लेनदेन का पता चल गया है। वहीं, 260 करोड़ रुपए की वेबवर्क कंपनी की ठगी में पुलिस को रकम को लेकर कोई बड़ी कामयाबी नहीं मिली है।

महिला को पीटने वाला आप विधायक का भाई गिरफ्तार

आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक के भाई समेत दो लोगों को एक महिला से कहासुनी के बाद हमला करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है। मामला दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के डाबरी इलाके का है। घटना रविवार रात तब हुई जब जनकपुरी से आप विधायक राजेश रिषि के भाई राजीव और उसके साथी सतीश यादव का कथित तौर पर अपने पड़ोसियों से झगड़ा हो गया।

पुलिस अधिकारी के मुताबिक पिछले एक महीने से विधायक के डाबरी स्थित घर में नगर निगम चुनाव के लिए टिकट चाहने वाले लोगों के आने से आस-पास रहने वाले लोगों को परेशानी हो रही थी। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि स्थान पर आने वाले लोग कारों में बैठ कर शराब पीते हैं। अपनी गाड़ियों की इधर-उधर पार्किंग कर दे हैं, जिससे यहां के लोगों को परेशानी हो रही है।

 

अखिलेश यादव ने कहा, "मायावती बीजेपी के साथ कभी भी मना सकती हैं रक्षा बंधन"

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App