ताज़ा खबर
 

दिल्ली: अभी और खिचेगी ओला-उबर की हड़ताल, 28 को होगी अदालत में सुनवाई

कैब चालकों के संगठन के पदाधिकारियों का कहना है कि ओला-उबर को कोर्ट का बुलावा गया है।

Author नई दिल्ली | February 20, 2017 01:45 am
प्रतीकात्मक चित्र

ऐप आधारित कैब चालकों की हड़ताल रविवार को दसवें दिन भी जंतर-मंतर पर जारी रही। कैब चालकों के संगठन के पदाधिकारियों का कहना है कि ओला-उबर को कोर्ट का बुलावा गया है। 28 फरवरी को हड़ताली मामले में सुनवाई है। वहीं पदाधिकारियों का कहना है कि मंगलवार तक ओला-उबर के अधिकारियों से मांगों को लेकर बातचीत होने की स्थिति बन रही है। ऐसा होता है तो अगले दो दिनों के भीतर हड़ताल खत्म कर दी जाएगी। सर्वोदय ड्राइवर एसोसिएशन आॅफ इंडिया के पदाधिकारी जितेंद्र सिंह ने कहा कि मंगलवार तक ओला-उबर के अधिकारियों से हड़ताल के संबंध में बात करने की संभावना बन रही है। उस बातचीत से दोनों पक्ष सहमत होंगे तो हड़ताल खत्म कर दिया जाएगी नहीं तो हम हड़ताल जारी रखेंगे। कैब चालकों की हड़ताल से दैनिक कैब यात्री बेहद परेशान हो रहे हैं। उन्हें मेट्रो और डीटीसी बसों से यात्रा करना पड़ रही है। वहीं रविवार को दिल्ली-एनसीआर की सड़कों पर अपेक्षाकृत कैब की संख्या बढ़ी हैं।

इसे लेकर हड़ताली कैब चालक संगठन का कहना है कि कुछ गाड़ियां सड़कों पर आई जरूर हैं लेकिन इनकी संख्या बहुत कम है। उनका कहना है कि अभी भी 80 फीसद कैब का पहिया थमा हुआ है। चालकों का पूरा समर्थन मिल रहा है। जो कैब चालक भ्रमित हुए हैं सोमवार को उन्हें रोका जाएगा और हड़ताल में लाया जाएगा। इस बीच जितेंद्र ने यह भी बताया कि संगठन के अध्यक्ष कमलजीत को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। भूख हड़ताल करने से उनके पेट में संक्रमण की शिकायत थी। लेकिन संगठन के उपाध्यक्ष रवि राठौर रविवार को भी राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती रहे। अभी वे पेट में संक्रमण से ज्यादा ग्रसित हैं। इधर, ओला ने रविवार को ग्राहकों के मोबाइल पर संदेश भेजा कि सोमवार से पूरी क्षमता के साथ काम पर लौट जाएंगे। अथार्त ओला की तरफ से संकेत साफ है कि सोमवार तक हड़ताली कैब चालक अपनी गाड़ियां सड़क पर उतार देंगे। जबकि हड़ताली कैब चालकों का कहना था कि जब तक उनकी मांगों को ऐप कंपनियां मान नहीं लेतीं, हड़ताल जारी रहेगी।

 

2005 दिल्ली सीरियल ब्लास्ट: 2 आरोपी बरी, तारिक अहमद डार को 10 साल की सजा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App